ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

ऋषभदेव प्रभु को है मेरा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
ऋषभदेव प्रभु को है, मेरा नमन

Scan Pic0014666166.jpg

तर्ज-बहुत प्यार.......

ऋषभदेव प्रभु को है, मेरा नमन।

चरण में समर्पित-२, हैं भक्ती सुमन।।ऋषभेदव.।।टेक.।।

मरुदेवी माता के घर, रत्न खूब बरसे।

अयोध्यापुरी में पिता, नाभिराय हरषे।।

चैत्र वदी नवमी को-२, हुआ प्रभु जनम।।ऋषभेदव.।।१।।

इस युग के आदिब्रह्मा, ऋषभदेव स्वामी हैं।

पुरुदेव तीर्थंकर की, पदवी से नामी हैं।।

अवध की प्रजा व धरती-२, हुई धन्य धन।।ऋषभेदव.।।२।।

राजसुख को भोग उसको, त्याग दिया क्षण में।

बनकर के जिनवर राजे, समवसरण में।।

‘‘चंदनामती’’ वे अपने, आप मे मगन।।ऋषभेदव.।।३।।

Czxc6.jpg