Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


खुशखबरी ! पू० श्रीज्ञानमती माताजी ससंघ कतारगाँव में भगवान आदिनाथ मंदिर के प्रांंगण में विराजमान हैं|

एकांकी (द्वितीय भाग)

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एकांकी (द्वितीय_भाग) कवर पेज

एकांकी (द्वितीय_भाग) के विषय में
प्रकाशक दिगम्बर जैन त्रिलोक शोध संस्थान, जम्बूद्वीप-हस्तिनापुर
लेखक गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी
पुस्तक के विषय में इसमें भी तीन कथानक लघु नाटिकाओं के रूप में प्रस्तुत किये गये हैं-(१) तीर्थंकर ऋषभदेव (२) अकाल मृत्यु विजय (पोदनपुर नरेश विजय महाराज) (३) प्रत्युपकार पूर्व भव में राजा मेघरथ के रूप में भगवान शांतिनाथ।
पुस्तक पढने के लिए यहाँ क्लिक करें