वीर निर्वाण संवत 2544 सभी के लिए मंगलमयी हो - इन्साइक्लोपीडिया टीम

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


22 अक्टूबर को मुंबई महानगर पोदनपुर से पू॰ गणिनी ज्ञानमती माताजी का मंगल विहार मांगीतुंगी की ओर हो रहा है|

एक प्रेरक प्रसंग

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक प्रेरक प्रसंग

एक बार भगवान महावीर बालक अवस्था में कुण्डलपुर के उद्यान में अपने मित्रों के साथ एवं इन्द्र बालकों के साथ बालक्रीडा कर रहे थे ।
वहाँ एक संगम नामक देव ने आकर भयंकर सर्प का रूप धारण कर हलचल मचा दी । सर्प को देखकर सभी बालक डर के मारे इधर-उधर भागने लगे ।
किन्तु महावीर उस सर्प के फण पर चढ़ कर माता की गोदी के समान क्रीड़ा करने लगे ।वे साँप से बिलकुल डरे नहीं, और उसको अपने वश में कर लिया ।
संगम देव उनकी निडरता एवं वीरता देखकर बहुत प्रभावित हुआ । उसने अपना असली रूप प्रकट कर महावीरके चरणों में नमन किया तथा बड़ी भक्ति के साथ उनका नाम रखा- महावीर इस प्रकार महावीर के जीवन में जब भी कोई परीक्षा के क्षण आए, वे हमेशा मेरु पर्वत के समान अचल रहे ।

उन महावीर स्वामी का जीवनवृत्त महावीर चरित-उत्तरपुराण आदि ग्रन्थों से पढ़कर हमें भी सदैव महावीर स्वामी की भक्ति करना चाहिए ।