ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

एक ही पेड़ पर लगते हैं 40 तरह के फल

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

[सम्पादन]
हैरान परेशानः एक ही पेड़ पर लगते हैं 40 तरह के फल

Treeoffourty.jpg

[सम्पादन] आपको ये जानकर हैरानी होगी कि इस दुनिया में एक ऐसा पेड़ है जो एक नहीं, दो नहीं, तीन नहीं बल्कि पूरे 40 तरह के फल देता है। आखिर ये पेड़ कैसे देता है 40 तरह के फल इस बात की जानकारी आप

फलों को सेहतमंद रखने का नुस्खा माना जाता है। लेकिन क्या कभी आपने ऐसे पेड़ के बारे में सुना है, जिसमें 40 तरह के अलग-अलग फल लगते हों। यकीन मानिए ये कोई मजाक नहीं है। जानिए कहां है ये पेड़ जिससे आप 40 तरह के फल खा सकते हैं। अमेरिका में एक विजुअल आर्टस के प्रोफेसर ने अद्भुत पौधा तैयार किया है। 40 प्रकार के फल देने वाला यह पौधा 'ट्री ऑफ 40' नाम से मशहूर है। इसमें बेर, सतालू, खुबानी, चेरी और नेक्टराइन जैसे कई फल लगते हैं।

[सम्पादन] इस पेड़ की कीमत आपके होश उड़ाने के लिए काफी है

अमेरिका की सेराक्यूज यूनिवर्सिटी में विजुअल आर्ट्स के प्रफेसर वॉन ऐकेन ने इस पेड़ को तैयार किया है जिसकी करीब 19 लाख रुपए है। इसका काम 2008 में उस समय शुरू हुआ जब वॉन ऐकेन ने न्यू यॉर्क स्टेट ऐग्रिकल्चरल एक्सपेरिमेंट में एक बगीचे को देखा जिसमें 200 तरह के बेर और खुबानी के पौधे थे। ये बगीचा फंड की कमी से बंद होने वाला था।

इस बगीचे में कई प्राचीन और दुर्गम पौधों की प्रजातियां भी थी। वॉन का जन्म खेती से संबंधित परिवार में होने के कारण खेती-बाड़ी में उनको हमेशा दिलचस्पी रही। उन्होंने इस बागीचे को लीज पर ले लिया और ग्राफ्टिंग तकनीक की मदद से उन्होंने ट्री ऑफ 40 जैसे अद्भुत कारनामे को अंजाम दिया। ग्राफ्टिंग तकनीक के तहत पौधा तैयार करने के लिए सर्दियों में पेड़ की एक टहनी कली समेत काटकर अलग कर ली जाती है। इसके बाद इस टहनी को मुख्य पेड़ में छेद करके लगा दिया जाता है। जुड़े हुए स्थान पर पोषक तत्वों का लेप लगाकर सर्दी भर के लिए पट्टी बांध दी जाती है। इसके बाद टहनी धीरे–धीरे मुख्य पेड़ से जुड़ जाती है और उसमें फल–फूल आने लगते हैं।