Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


21 फरवरी को मध्यान्ह 1 बजे लखनऊ विश्वविद्यालय में पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी का मंगल प्रवचन।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

ऐंटिबायॉटिक का बढ़ता उपयोग खतरा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐंटिबायॉटिक का बढ़ता उपयोग खतरा

मुंबई । दुनिया भर में ऐंटिबायॉटिक का इस्तेमाल पिछले कुछ दशकों में लगातार चढ़ा है। बेहद आम बीमारियों के इलाज के लिए भी ऐंटिबायॉटिक्स के बढ़ते उपयोग से चिंतित नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ. जॉन रोबिन वारेन ने चेताया है कि यदि ऐटिबायॉटिक का यह अंधाधुंध इस्तेमाल परेशानी का कारण बन सकता है। इंडियन साइंस कांग्रेस में हिस्सा लेने मुंबई आए डॉ. वारेन ने कहा कि मैं समझता हूँ कि वैश्विक रूप से अभी के मौजूदा विषयों में से एक ऐटिबायॉटिक्स का बढ़ता उपयोग और एंटिबायॉटिक्स के प्रति बढ़ते प्रतिरोध है। यदि इसका बढ़ना जारी रहा तो दुनिया भर को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि जरूरी है कि जब जरूरत ना हों तो डाक्टर मरीजों को ऐंटीबायोटिक्स लेने की सलाह दें। डॉ. वारेन ने कहा कि मरीज सर्दी—जुकाम जैसी चीजों में डाक्टरों से ऐंटीबायॉटिक्स लेने का परामर्श देने को कहते हैं जबकि डॉक्टरों से ऐंटीबायॉटिक्स लेने का परामर्श देने को कहते हैं जबकि डॉक्टर भी यह जानते हैं कि इससे कोई फायदा नहीं होगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि ऐटिबायॉटिक्स के प्रति प्रतिरोध जन—स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा वैश्विक खतरा है।


जिनेन्दु अहमदाबाद,१८ जनवरी, २०१५