ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

ऐशान

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐशान
Name of the 2nd heaven, Name of an Indra who put parasol over the head of Lord on the event of birth ceremony of Lord. द्वितीय स्वर्ग का नाम, द्वितीय इंद्र का नाम जो भगवान के जन्मकल्याणक में आकर भगवान के ऊपर छत्र लगाते हैं।