Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


21 फरवरी को मध्यान्ह 1 बजे लखनऊ विश्वविद्यालय में पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी का मंगल प्रवचन।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

ऐसी लागी लगन, भक्ति में हो मगन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐसी लागी लगन

तर्ज—ऐसी लागी लगन, मीरा......

1 (2) (Small).jpg

ऐसी लागी लगन, भक्ति में हो मगन,
ज्ञानमति माता सबको बताने लगीं।
लेके श्रद्धा सुमन, करके प्रभु को नमन,
वे तो दुनियां को मारग दिखाने लगीं।। ऐसी......।।टेक.।।
पहले राजा महाबल, बना देवता,
फिर वो राजा बना, भोगभूमी गया।
भोगभूमी की महिमा बताने लगीं।। ऐसी......।।१।।
उनको सम्यक्त्व से, देवगति मिल गई।
उनकी सत्कर्मों से, आत्मकलि खिल गई।
देव श्रीधर की बातें, बताने लगीं।। ऐसी.......।।२।।
सुविधि राजा से वे, अच्युतेन्द्र बने,
चक्री सम्राट वे, वङ्कानाभि बने।
उनकी वैराग्य चर्चा, बताने लगीं।। ऐसी........।।३।।
फिर वे सर्वार्थसिद्धि के, अहमिन्द्र हो,
तत्वचर्चा में ही मग्न, आजन्म हो।
उनकी पदवी की महिमा, बताने लगीं।। ऐसी.......।।४।।
अन्त में दशवें भव में, ऋषभदेव बन,
कर्मयुग के हुए, तीर्थंकर वे प्रथम।
उनके उपकार जग को, बताने लगीं।। ऐसी......।।५।।
उनका निर्वाण उत्सव, मनाओ सभी,
‘‘चन्दना’’ मिल के नर नारी, आओ सभी।
सबको कल्याण का पथ, दिखाने लगीं।। ऐसी......।।६।।

Czxc6.jpg