ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

ऑफिस टी—ब्रेक से होता है दिमाग तेज

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


[सम्पादन]
ऑफिस टी—ब्रेक से होता है दिमाग तेज

Shamaf.jpg
Shamaf.jpg

एक नई स्टडी से पता चला है कि ऑफिस में टी—ब्रेक लेने से दिमाग ज्यादा और अच्छी तरह से काम करता है। इससे प्रोडक्टिविटी पर भी इसका असर पध्ता है। लिपटन चाय बनाने वाली कंपनी की तरफ से यह रिसर्च करवाई गई। इसमें रिसचर्स को चाय से जुडे एक्सपेरिमेंट करने को कहा गया। शोधकर्ता सुजैन ईनोदर के मुताबिक चाय में कैफीन और थिएनाइन पाया जाता है, जो कि एक अमीनो एसिड है। यह दिमाग को रिलैक्स करने में मदद करता है। दरअसल ऑफिस में लगातार काम करते रहने से दिमाग कमजोर होने लगता है, जिसके चलते भूलने और याददाश कमजोर होने की दिक्कतें होने लगती हैं। आज हम आपको दिमाग और मैमोरी को तेज करने के लिए कुछ टिप्स दे रहे हैं।

हॉलैंड में यह शोध १५० से अधिक लोगों पर करवाया गया। इसमें ११६ महिलाएं शामिल थी। सभी लोगों को तीन अलग—अलग ग्रुप को चाय बनाने और पीने के लिए कहा गया। दूसरे ग्रुप को मीठा खाने के लिए कहा गया और तीसरे ग्रुप को पानी का एक गिलास पीने के लिए बोला गया । इस दौरान इसके बाद सभी प्रतिभागियों के मूड, क्रिएटिविटी और मोटिवेशन की कैटेगरी में मापा गया। इसके लिए इन्हें अलग—अलग टेस्ट पूरे करने के लिए दिए गए , जिनमें वर्ड गेम, क्रिएटिव एलियन पेंटिंग और पजल सॉल्व करने के लिए कहा गया।

स्टडी से सामने आया कि चाय पीने वालों ने बाकी लोगों से जल्दी और ज्यादा क्रिएटिव पेंटिंग बनाई। यह भी पता चला कि अपनी सीट से उठकर चाय पीने के लिए जाने से भी मूड रिप्रेश हो जाता है। स्टडी में भी यह बात साबित हुई है कि चाय लिमिट में पीने से और भी बहुत से फायदे होते हैं। एक दिन में चार बार चाय पीने से स्ट्रेस लेवल कम होता है।

१. चाय: चाय में पाया जाने वाला पॉलीफिनॉल दिमाग को संतुलित रखने में मदद करता है। यह दिमाग को शांत और एकाग्र भी बनाता है। ग्रीन टी भी गुणों से भरपूर है। इसमें बहुत अधिक मात्रा में एंटी—ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। इसीलिए इसके नियमित सेवन से शरीर स्वस्थ रहता है। दिन भर में दो से तीन कप ग्रीन टी पीने से याददाशत बढ़ती है।

२. चॉकलेट चाय: तीन महीने बाद उन लोगों को मेमोरी टास्क दिया गय। इस टाक्स में निकलकर आया कि जिन लोगों ने कोको बहुत कम मात्रा में खाया उन्हें मेमोरी टास्क पूरा करने में ज्यादा वक्त लगा। इस रिसर्च को अल्जाइनर्स पीड़ितों के इलाज की दिशा में महत्वपूर्ण माना जा रहा है। अल्जाइमर सोसायटी के रिसर्च मैनेजर डॉ. क्लेयर वॉल्टन ने बताया कि भले ही यह स्टडी कम लोगों पर की गई है, लेकिन कोको ब्रेन के हिस्सों में इस तरह से प्रभावित करता है कि दिमाग तेज चलने लगता है।

३. टमाटर: खट्टा—मीठा टमाटर खाने के जायके को बढ़ाता है। टमाटर में प्रोटीन, विटामिन, वसा आदि पाए जाते हैं। इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा कम होती है। टमाटर में लाइकोपीन होता है। यह शरीर की फ्री रैडिकल्स से रक्षा करता है। साथ ही यह ब्रेन की सेल्स को डैमेज होने से भी बचाता है।

४. दही:— दही में प्रोटीन , कार्बोहाइड्रेट, वसा, खनिज, लवन, कैल्शियम और फास्फोरवस पर्याप्त मात्रा में पाये जाते हैं। दही का नियमित सेवन करने से कई लाभ होते हैंं। यह शरीर में लाभकारी जीवाणुओं की बधेत्तरी करता है और हानिकारक जीवाणुओं को नष्ट करता है। इसमें अमीनों एसिड पाया जाता है, जिससे दिमागी तनाव दूर होता है और याददाशत बढ़ती है।

५. केसर: केसर एक ऐसा मसाला है जो खाने के स्वाद को दोगुना कर देता है। केसर का उपयोग अनिद्रा दूर करने वाली दवाओं में किया जाता है। इसके सेवन से मस्तिष्क ऊर्जावान रहता है।

६. अखरोट: रोज अखरोट खाने से पोषक तत्वों की कमी दूर हो जाती है। साथ ही, सेहत से जुड़ी कई समस्याएं भी खत्म होती हैं। अखरोट में ओमेगा ३, फैटी एसिड, प्रोटिन,फाइवर और एंटी—आक्सीडेंट अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। थोड़ी अखरोट रोज खाने से याददाशत बढ़ती है।

७. अजवाइन: यदि आप अपने खाने को अलग फ्लेवर देना चाहते हैं तो अजवाइन की पत्तियों का उपयोग करें। अजवाइन की पत्तियां शरीर को स्वस्थ और जवान बनाए रखने में मदद करती है। दरअसर, अजवाइन की पत्तियों में पर्याप्त मात्रा में एंटी—ऑक्सीडेंट पाए जाते है। इसीलिए यह दिमाग के लिए औषधि कर तरह काम करती हैं। यही कारण है कि अरोमा थेरेपी में भी इसका उपयोग किया जाता है।

८. जैतून का तेल: जैतून केवल आपके स्वास्थ्य के लिए ही नहीं, बल्कि आपके चेहरे की खूबसूरत के लिए भी लाभदायक है। जैतून में अच्छी मात्रा में फैट पाया जाता है। इसीलिए यह याददाशत बढ़ाने का काम भी करता है।

९.दालचीनी: अल्जाइमर रोगियों के लिए दालचीनी एक जबरदस्त दवा है। दालचीनी के नियमित सेवन से याददाशत बढ़ती है और दिमाग स्वस्थ रहता है।

१०. कालीमिर्च: काली मिर्च में पेपरिन नााम का रसायन पाया जाता है। यह रसायन शरीर और दिमाग की कोशिकाओं को रिलैक्स करता है। डिप्रेशन में यह रसायन जादू—सा काम करता है। इसीलिए यदि आप अपने दिमाग को स्वस्थ बनाए रखना चाहते हैं, तो खाने में काली मिर्च का उपयोग करें।

हस्तिनापुर टाईम्स,५ जनवरी २०१५