Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

कई रोगों की दवा है मौसमी

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कई रोगों की दवा है मौसमी

खट्टे फलों की श्रेणी में आने के कारण मौसमी विटामिन सी का भण्डार है। इसमें विटामिन ए,बी, कॉम्लेक्स, फ्लेवोनश्चयड, अमीनो एसिड, कैल्शियम, आयोडीन, फॉस्फोरस, सोडियम, मैगनीज जैसे अन्य पोषक तत्व भी होते हैं। एंटी ऑक्सीडेंट गुणों के कारण यह हर मौसम में बहुत उपयोगी है।

मौसमी में मौजूद पोटेशियम, फोलिक एसिड, कैल्शियम, कोेलेस्ट्रॉल के स्तर और हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखता है। इसमें मौजूद प्रक्टोज, डेक्सट्रोज जैसे खनिज शरीर में ऊर्जा का संचार कर दिल और मस्तिष्क को ताजगी देते हैं।

विटामिन सी और ए हमारे खून में सफेद कणिकाओं के निर्माण को बढ़ावा देते हैं, जिससे हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार होता है। मौसमी शरीर में आयरन बढ़ाने में सहायक है, जिससे सर्दी —खांसी में राहत मिलती है।

मौसमी कफ को पतला करके बाहर निकालती है और नाक व छाती में अवरोध को दूर करती है। इससे कब्ज, गैस, अपच जैसी समस्याओं से राहत मिलती है। मौसमी का जूस पीने की बजाय इसे ऐसे ही खाएं । जूस बनाने पर इसमें मौजूद रेशे निकल जाते हैं, जो कि पाचनतंत्र के लिए काफी उपयोगी होते हैं।


साप्ताहिक शिशिर नाशन
१७ नवम्बर २०१४