ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर २०१६- रविवार से सीधा प्रसारण चल रहा है | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

करेला अचार

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
DT9bEk9T7.jpg
DT9bEk9T7.jpg

[सम्पादन]
करेले आचार

सामग्री : कच्चे करेले-२ किलो, सरसों का तेल-२५० ग्राम, मिर्च, हल्दी, राई, हींग अंदाज से नींबू का रस। विधि : सर्वप्रथम ताजा कच्चे करेले छीलकर उन्हें नमक में डालकर सान लीजिए, उन्हें बीच में से चीर दीजिये। चाहें तो छोटे-छोटे कतले भी काट सकती हैं, अब हल्दी, मिर्च, हींग को घी या तेल में भूनें और नमक व राई के साथ पीस लें, फिर इस मसाले को सरसों के तेल में सानकर करेलों से भर दें और धागे की सहायता से लपेटकर करेलों के चीरे हुए पेट बन्द कर दें तथा मर्तबान में भरकर ऊपर से नींबू का रस निचोड़ दें, यदि पतली छोटी-छोटी कतलें हों तो उन्हें भी ऐसे ही मसाले में सानकर भर दें, १०-१५ दिन तक इस अचार को रोज धूप में रखती रहें।


आज का आनंद २६ जुलाई २०१६