ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्ज एप पर मेसेज करें|

पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माता जी के द्वारा अागमोक्त मंगल प्रवचन एवं मुंबई चातुर्मास में हो रहे विविध कार्यक्रम के दृश्य प्रतिदिन देखे - पारस चैनल पर प्रातः 6 बजे से 7 बजे (सीधा प्रसारण)एवं रात्रि 9 से 9:20 बजे तक|
इस मंत्र की जाप्य दो दिन 16 और 17 तारीख को करे |

सोलहकारण व्रत की जाप्य - "ऊँ ह्रीं अर्हं संवेग भावनायै नमः"

कर्तव्य :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कर्तव्य :

मा होह कोवणा भो खलेसु मित्त च मा कुणह।।
—कुवलयमाला : ८५

हे मानव ! जीवों को मत मारो, उन पर दया करो, सज्जनों को अपमानित मत करो, क्रोधी मत होओ और दुष्टों से मित्रता न करो।

धम्मम्मि कुणह वसणं राओ सत्थेसु णिउणभणिएसु।

पुणरुत्तं च कलासु ता गणणिज्जो सुयणमज्झे।।

—कुवलयमाला : ८५


शास्त्रों में, विद्वानों के वचनों में अनुराग करो एवं धर्म का अभ्यास करो एवं कलाओं का बार—बार पुनरावर्तन करो, तब सज्जनों के बीच में गिनने योग्य होवोगे।

थोवं थोवं धम्मं जइ ता बहुं न सक्केह।

पेच्छह महानईयो बिन्दूहिं समुद्दभूयाओ।।

—अर्हत्प्रवचन : १९-१४

यदि अधिक न कर सको तो थोड़ा—थोड़ा ही धर्म करो। बूँद—बूँद से समुद्र बन जाने वाली महानदियों को देखो।