ऊँ ह्रीं श्री ऋषभदेवाय नम:।

Whatsappicon.png
Whatsappicon.png
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें |


पूज्य गणिनीप्रमुख आर्यिकाशिरोमणि श्री ज्ञानमती माताजी द्वारा देश के समस्त जैन विद्वानों के लिए विशेष सैद्धांतिक विषयों पर ऋषभगिरि-मांगीतुंगी से विद्वत प्रशिक्षण शिविर का पारस चैनल पर ४ दिसंबर, रविवार से ११ दिसंबर २०१६, रविवार तक प्रातः ६ बजे से ७ बजे तक सीधा प्रसारण होगा | घर बैठे देखकर अवश्य ज्ञान लाभ लें |

कर्मदहन विधान की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कर्मदहन विधान की आरती

Diya123.jpg Tirth.jpg

तर्ज—ॐ जय.............


ॐ जय जय कर्मजयी, स्वामी जय जय कर्मजयी।
ध्यान अग्नि से कर्म दहन कर, बन गए मृत्युजयी ।।ॐ जय.।।
मानव तन अनमोल रतन पा, मुनि पद जो धरते—स्वामी।
त्याग तपस्या द्वारा, शिवपद को वरते।।।।ॐ जय.।।१।।
घाति कर्म को क्षय कर, केवलज्ञान मिले ..........स्वामी।
पा अरिहन्त अवस्था, दिव्यध्वनी खिरे ।।ॐ जय.।।२।।
शेष अघाति नशाकर, सिद्धशिला पाते.........स्वामी।
काल अनन्त बिताकर, फिर न यहाँ आते ।।ॐ जय.।।३।।
इन्द्रियविजयी नर ही, कर्मजयी बनते .........स्वामी।
तभी पंचपरमेष्ठी, परम पूज्य बनते ।।ॐ जय.।।४।।
प्रभु आरति से हम भी, ऐसी शक्ति लहें........स्वामी।
शीघ्र ‘‘चंदनामती’’ मुक्ति के, पथ की युक्ति गहें ।।ॐ जय.।।५।।