कवि

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कवि :

परेषां दूषणाज्जातु न बिभेति कवीश्वरा:।

किमुलूकभयाद् धुन्वन् ध्वान्तं नोदेति भानुमान्।।

—आदिपुराण : १-७५

दूसरों के भय से कविजन (विद्वान) कभी डरते नहीं हैं। क्या उल्लुओं के भय से सूर्य अंधकार का नाश करना छोड़ देता है ?