Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

कान में थोड़ी मैल जरूरी है

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कान में थोड़ी मैल जरूरी है

कान मनुष्य के श्रवण यंत्रा वाले भाग को कहा जाता है। यह भाग बहुत ही संवेदनशील एवं नाजुक होता है । इसमें नहाते समय पानी भरने से मैल जमने मवाद निकलने व दर्द होने से दैनिक जीवन एवं क्रियाकलाप दूभर हो जाता है। कान, नाक एवं गले से संबंधित बीमारियां एक दूसरे से जुडी होती हैं इसीलिए इससे संबंधित डॉक्टर को ई.एन.टी. चिकित्सक के रूप में प्रसिद्धि मिलती है।

कान में दर्द, मवाद निकलने एवं मैल जमने की परेशानी प्राय: सबको होती है। नहाते समय असावधानी के चलते इसमें पानी भरता है। संक्रमण होता है। कान के सभी मामलों में श्रवण क्षमता प्रभावित होती है। कान में मैल के जमने पर उसे निकालना कठिन हो जाता है इसीलिए कान से सदैव मैल निकालते रहने की सलाह दी जाती है, कान साफ रखने की सलाह दी जाती है किंतु जापान के ईयर सैलून का निष्कर्ष है कि कान में थोड़ी मैल होनी चाहिए क्योंकि यह बाहरी संक्रमण से बचाती है।


जिनेन्दु अहमदाबाद
२८ दिसम्बर, २०१४