Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

क्रोध नहीं क्षमा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


क्रोध नहीं क्षमा

बंगाल में किसी समय एक पंडित रत्न थे। नाम था— पं. विश्वनाथ शास्त्री। बहुत बड़े विद्वान थे। सकल शास्त्र कंठाग्र थे। उन दिनों शास्त्रार्थ बहुत होते थे। किन्तु पं. विश्वनाथ से शास्त्रार्थ करने में सब झिझकते थे। एक पंडितजी उनसे शास्त्रार्थ करने लगे, किन्तु वे किसी प्रकार से पार नहीं पा रहे थे। आखिर में उन्होंने सोचा कि यदि शास्त्रीजी को किसी प्रकार से गुस्सा करवा दिया जाय तो वे असंबद्ध तर्क देने लगेंगे और पराजित हो जायेंगे। यह सोचकर उन्हें और कुछ नहीं सूझा तो उन्होंने शास्त्रीजी के मुंह पर थूक दिया। किन्तु इस पर भी शास्त्री जी कुछ नहीं बोले। शान्ति से अपने दुपट्टे से मुंह पोंछकर कहा— यह तो विषयान्तर, हुआ, अब पुन: अपने मूल विषय पर आवें। उनकी यह क्षमा देखकर आगन्तुक पंडित पानी पानी हो गया और क्षमा मांगने लगा। शास्त्रीजी के मुख पर मंद हास्य था।

‘‘ घर घर चर्चा रहे ज्ञान की’’ पत्रक से २०१४