Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी एवं आर्यिका श्री चंदनामती माताजी की काव्य वार्ता

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी एवं आर्यिका श्री चंदनामती माताजी की काव्य वार्ता

DSC 0082.JPG

तर्ज-सावन का महीना..........

चन्दनामती
तू पूनो का चन्दा, और मैं मावस की रात।

बोलो माता मेरा तेरा, हो गया कैसे साथ।।१।।


श्री ज्ञानमती माताजी

मैंने तुझे चखाया, ज्ञानामृत का जो स्वाद।
इसीलिए तो मेरी तेरी, जल्दी बन गई बात।।२।।

चन्दनामती

जीवन के इन स्वर्ण क्षणों को, नहिं सोचा था बचपन में।
देखा पहली बार तुझे जब, विस्मय होता था मन में।।
मैं क्या जानूँ तेरी, पदवी है जग में ख्यात।
बोलो माता मेरा तेरा, हो गया कैसे साथ।।३।।

श्री ज्ञानमती माताजी

ग्यारह बरस उमर में तू, मेरे दर्शन को आयी थी।
उस क्षण ही मैंने तुझको कुछ, ज्ञान की बात सिखाई थी।।
वही ज्ञान की शिक्षा, हो आई तुझको याद।
इसीलिए तो मेरी तेरी, जल्दी बन गई बात।।४।।

चन्दनामती

बाल उमर में मुझको माता, तुमने जो संस्कार दिये।
उसका ही फल मैंने तुमसे, तीन रत्न स्वीकार किये।।
तू है ज्ञान की गंगा, पावनता तेरी ख्यात।
बोलो माता मेरा तेरा, हो गया कैसे साथ।।५।।

श्री ज्ञानमती माताजी

मेरे ज्ञान की सरिता से तुम, चाहे कितना ज्ञान भरो।
रत्नत्रय की वृद्धी करके, निज पर का कल्याण करो।।
गुरु आज्ञा में बिताए, तुमने अपने दिन रात।
इसीलिए तो मेरी तेरी, जल्दी बन गई बात।।६।।

चन्दनामती

जिस जननी ने जन्म दिया, मैं उसको कभी न भूलूँगी।
तेरे वचनों के मोती मैं, अपने दिल में भर लूँगी।।
युग युग तक तू मुझको, दे अपना आशिर्वाद।
बोलो माता मेरा तेरा, हो गया कैसे साथ।।७।।

श्री ज्ञानमती माताजी

महावीर की परम्परा में, कुन्दकुन्द आचार्य हुए।
इस क्रम में श्री शांतिसिंधु इस सदि के प्रथमाचार्य हुए।।
उनके दर्शन करके, पाया मैंने सन्मार्ग।
इसीलिए तो मेरी तेरी, जल्दी बन गई बात।।८।।

चन्दनामती

शांतिसिंधु के पट्टशिष्य, श्री वीरसिंधु की शिष्या तुम।
दृढ़ता औ संकल्प की मूरत, हरतीं जग का मिथ्यातम।।
कहे ‘चन्दना’ जनम जनम में, चाहूँ तेरा साथ।
बोलो माता मेरा तेरा, हो गया कैसे साथ।।९।।