Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

गिरनार सिद्धक्षेत्र तीर्थ की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिरनार सिद्धक्षेत्र तीर्थ की आरती

111.jpg 221.jpg


तर्ज—आओ बच्चों.............


चलो सभी मिल करें आरती, सिद्धक्षेत्र गिरनार की।
नेमिप्रभु के तीन कल्याणक से पावन शुभ धाम की।।
जय गिरनार गिरी, बोलो जय गिरनार गिर ।।टेक.।।
जूनागढ़ में नेमिनाथ राजुल को ब्याहन आए थे,
पशुओं की चीत्कार सुनी जब, मन ही मन अकुलाए थे,
चले विरक्तमना होकर प्रभु, राह गही शिवधाम की।
नेमिनाथ...............।।जय-जय.।।१।।
राजुल भी पति की अनुगामिनि, बन नेमी की शरण गई,
दीक्षा ले प्रभु पादकमल में, तपश्चरण में लीन हुई,
समवसरण में गणिनी बन, हुर्इं पावन पूज्य महान थीं।
नेमिनाथ...............।।जय-जय.।।२।।
टोंक पांचवीं इस पर्वत की, प्रभु को जहाँ निर्वाण हुआ,
इसी तीर्थ गिरनार से कितने, मुनियों ने भी मोक्ष लहा,
कर उत्कीर्ण चरण सुरपति ने, गाया जय-जयगान भी।
नेमिनाथ...............।।जय-जय.।।३।।
इस पर्वत का वन्दन करने, कुंदकुंददेव गुरु आए थे,
बोल पड़ी पाषाण अम्बिका, चमत्कार दरशाए थे,
हुई जीत nirgrantha_ धर्म की, ऐसी महिमावान थी।
नेमिनाथ...............।।जय-जय.।।४।।
जिन संस्कृति की अमिट धरोहर, पावन पूज्य तीर्थ अ
पना,
वर्तमान में हर जैनी की, श्रद्धा का शुभ केन्द्र बना,
मुक्तिधाम की आश लिए, ‘चंदना’ जजूं गिरिराज जी।

्नोमिनाथ...............।।जय-जय.।।५।।