Jayanti2019banner.jpg


Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|

गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ टिकैतनगर बाराबंकी में विराजमान हैं |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

गिरनार : अजैन विद्वानों के मत

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गिरनार : अजैन विद्वानों के मत

मैंने अपने पिछले लेख ‘‘गिरनार : अतीत की एक झलक’’ (अर्हत् वचन २५ (२.३) में गिरनार पर्वत के इतिहास के साथ इसके कुछ प्राचीन एवं पुराने पेन्सिल स्केच एवं फोटोग्राफ्स दिये थे। इस पूरे पहाड़, विशेष कर विवादित ‘‘पाँचवी—टोंक’’ जिसे वैष्णव लोग’’ गुरु—दत्तात्रय’’ से संबंधित स्थान मानकर अपना अधिकार जताते हैं, का विवरण उपरोक्त लेख में देने से मैंने जानबूझकर छोड़ दिया था। उक्त पहले लेख में जितने भी संर्दिभत लेखकों के उदाहरण दिये गये हैं, सभी अजैन विद्वान हैं। किसी भी जैन पुस्तक या पुराण अथवा लेखक का उल्लेख इस कारण से नहीं किया गया कि पक्षपात के आरोप से बचा जा सके। अब कुछ अन्य अभिमत यहां प्रस्तुत कर रहा हूँ। विगत माहों में निम्नलिखित मुस्लिम, अंग्रेज और सनातन धर्म के हिन्दू विद्वानों द्वारा प्रकाशित लेखों / पुस्तकों के आधार पर गिरनार पर्वत से संबंधित जो विवरण मेरी जानकारी में आये हैं, उनको यहां संकलित कर रहा हूँ—

(अ) मुस्लिम लेखकों के विवरण

(1) Mirat-i-Secunder Or Mirror of Secunder about 1414-15 AD Author :-Secunder Ibn Mohammad Manjhu Akbar Language : FARSI

यह विवरण ले. कर्नल ए. वाकर रेसीडेंट बड़ौदा द्वारा दि. १२ जनवरी १८०८ को गवर्नर बॉम्बे को भेजी गई रिपोर्ट से उद्धृत है।

Girnar is a natural fortification near the top of the five peaks of mountain, three of its sides from an arc of circle and fourth is chord......The fort of Junagarh is on the west side of same mountain ......... occupies about a mile[१]. Appendix The mountain is full of temples and springs. The most remarkable is Mehta Girnaree and Gods of Heemnauth and Ummejara[२]

(2) Ayeen Akbery :—Vol II, P. 66 by Gladwin-There is no language so ill-calculated to transmit proper names, and of course, aught to geography, as the Arabic and Persian, Abulfazil's compendium of the statistic of this region, is deprived of much of its value from deviation, but who would ever discover the holy mounts of Saturnja and Girnar in Berajy and Gowneer ? (P. 67). Again in describing the third division he says : ``At the foot of the mountain of Sirojn is a large city. now out of repair; ``Who would expect these to be satrunja and Palithana ? And so on[३].

SRAVCA TEMPLES IN GUJERAT

These like the temples of Hindus are to be found in most of the towns and village of Gujerat. The chief are :- 1st : Satrunjaya.......... 2nd : Nimnatha-This is a large temple on the mountain of Girnar, Near Junagarh dedicated to Nimnath, Many stories are related to this place, which are too long for insertion hear[४]. There is a foot note on this page, which is ``The senetity of Samat Sichor as well as Girnar and..... arises from their having been the mountains on which the deification of their Tirthancaras, ADNATHA, NAMINATHA etc. occurred.

(ब) अंग्रेज लेखकों के विवरण

(१) मेजर जेम्स टाड (सन् १८२२ में यात्रा) यह एक बहुत ही सुप्रतिष्ठित लेखक एवं इतिहासकार रहे हैं जिनकी......‘एन्नाल्स ऑफ राजस्थान’ नामक पुस्तक राजस्थान के इतिहास में मील का पत्थर है। इन्हीं विद्वान लेखक ने ‘ट्रेवल्स इन वेस्टर्न इंडिया,, लंदन, (सन् १८३९) पुस्तक लिखी है। इस पुस्तक के दो चेप्टर १७ एवं १८ (पृष्ठ ३५५ से ४०१) में जूनागढ़ एवं गिरनार पर्वत का इतिहास एवं विवरण दिया गया है। वैसे गिरनार पर्वत की यात्रा टाड द्वारा सन् १८२२ के आसपास की गई थी परन्तु पुस्तकाकार में इसके विवरण सन् १८३९ में लंदन (इंगलैंड) से प्रकाशित हुए। इनके दिये विवरणों को बाद में लिखी गई पुस्तकों और शोध पत्रिकाओं में अनेक विद्वानों में उद्धरित किया है। गिरनार पर्वत के बाबत टाड द्वारा दिये गये विवरण का संक्षिप्त वर्णन मैं अपने पिछले लेख में कर चुका हूँ फिर भी उनके हृदय में गिरनार पर्वत के लिये इतनी ज्यादा शृद्धा थी कि उन्होंने इसे ‘माउन्ट ऑफ प्यूरिटी’ (पृष्ठ ३०२) यानि’’ पवित्र—पर्वत’’, जैसे शब्दों से संबोधित किया है। मुझे यह प्रतीत होता है कि टाड ने इस पर्वत की चढ़ाई आम तीर्थयात्रियों के रास्ते से आरंभ न करके, जंगल की किसी पंगडंडी वाले शार्टकट के रास्ते से की थी और इस प्रकार वह बहुत दुर्गम रास्ते से ‘‘गिरिराज’’ के आधार (बेस) तक पहुँचे थे। वह लिखते हैं।

After a very short progress in this intricate pathway, the pilgrim is arrested by the PADUCA of one of the great sages (moonis) of yore, which exacts his prostration, and close by are five shrines, of the earliest and rudest style of architecture having domes supported by clumn of granite. These are ascribed to the Pandu brothers and two more, in a still more ruinous conditions, are given to their kinsman and companion, Kanya, and to Droopdevi, the common wife the five Hindu Scythic Chiefs[५] At Sunrise I recommenced .......Amba Mata, .........Goruknath. Elevated .......... Conce on all fours. On reaching the summit. I found myself on a small platform, not above ten feet in diameter, in the centre of which was a small monolithic shrine, sacred to two hundred feet from its own immediate base and about one hundred and fifty feet higher than that of the ``Univrsal Mother. Satisfied with having attained the highest point of Giri-raj, I sat down by the PADUCA of the saint, covered by this miniature shrine, and took the bearing of the peaks, which my unseasonable lameness would not let me visit. ?

NEMI THE BUDHA

In proof of this intimate union of Budha with YADU, YUTI, or gate race, let it be remembered the a postle Nemi, the twenty second Budha, was a YADU, and of family of Crishna, i.e., they were sons of two brothers, and it is affirmed that Crishna, prior to his deification, adorned Budha-Trivicrama at Dwarka, it is evident that the act was then heretical, The chair of Budha is always filled by election, and in those days inveriably from princely families, while, in the present, the elective right to the Sri-pooj or primacy, still obtains in Oswal tribe, descended from the kings of Anhuwarva, but who have relinquished the sword for commerce. I mention this to account for the election of Nemi, the ``Glory of Girnar, into the chair of Budha, and I will further add tradition yet current among Jains, in proof of simultaneous bifurcation of these sects, to account for a deviation from Budhic ceremonials, in the erection of closed temples.

(२) मिसेज मारियाना पोस्टान्स (प्रकाशन वर्ष १८३८)

इस अंग्रेज विदुषी महिला ने अपनी भारत यात्रा के विवरण लिखे हैं। खंड दो (वाल्यूम—२) में गिरनार पर्वत का विस्तृत वर्णन है। गिरनार पर्वत के बाबत वह लिखती हैं—

The hill of Girnar is known as one of the five mounts sacred to the Jain sect, its caves and ancient temples, inclined to the belief, of its owing its origin to the early ages of Buddhism.[६] They refer to the original building of a bridge on the way to girnar, commenced, as it appears, in the time of Chandra Gupta, The Grand Father of Ashok, and repaired and complete at various subsequent period. The temples of Girnar were doubtless of Buddhist origin. The word Budda, signifies universal holiness, and his disciples seem to have been untinctured by idol worship, until the apotheosis of crishna, about 1200 B.C. Mrs. Postans after passing two days in observing the Jain temples on mountain fort of Girnar, further started her journey towards the ascent of other peaks by means of a little dooly. Before reaching the Guru Dattars peaks i.e., fifth, tonk she writes.

Jen Deeies efueKeleer nQ~

The steps, we found, continued over the various irregularties of the hill, and halts, to relieve the bears, were made at the several beautiful temples, which crown the level spots....... Two peaks form the summits of Girnar. On the first, we found a small temple erected over a pair of gigantic feet, in commemoration of an ascent having been made from hence, by one of the Tirthacars.

GURU DATTARA PEAK

About one hundred and fifty yards from this point, rises the guru-Dattara, the highest peak of the Girnar. A Succession of block, are crowned by a small white temple, decorated with flags. A fearful depth intervenes between the first peak, and the Guru Dattara which shoots up, all bare and rugged, into glowing sky.......................... A Gosaen inhabits the temple, at the summit Guru Dattar; but not withstanding the steps are continued...................... Not withstanding the danger of the ascent, and its fatal results pilgrims may be seen, crowding the way towards the Guru Dattara from all parts of the Peninsula of India. A small Tablet, let into the side of the temple, record that the steps were the work of a weath Banian, from the town of Boondee, in Rajpootana.

(३) जेम्स वर्गीज Report of the Antiquities or Kathiawad and Kachh यह ‘भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण’ विभाग के डायरेक्टर जनरल के पद पर कार्यरत रहे थे। उनकी यह रिपोर्ट र्आिकलाजीकल सर्वेयर एण्ड रिर्पोटर, गवर्नमेन्ट ऑफ वेस्टर्न इंडिया, बॉम्बे द्वारा सर्वप्रथम सन् १८७६ में प्रकाशित की गई थी। पुन: इसे भारतीय पुरातत्व विभाग नई दिल्ली, भारत सरकार ने १९९८ में रीप्रिन्ट कर प्रकाशित किया है। इस सरकारी रिपोर्ट में एक चेप्टर ‘‘माउन्ट—गिरनार’’ शीर्षक से पृष्ठ १५४ से १७६ तक है। इसके अलावा भी और कई पृष्ठ ‘‘गिरनार’’ के बाबत हैं परन्तु यहाँ इस लेख में, मैं ज्यादा विस्तार से न जाकर केवल मात्र पाँचवी टोंक जिसे दत्तात्रेय शिखर के नाम से पुकारा/जाना जाता है से संबंधित टिप्पणियों पर ही अपना ध्यान केन्द्रित करूँगा।

जेम्स वर्गीज इस पुस्तक के Preface में लिखते हैं कि ‘‘Tough devoted chiefly to kathiawad and kachh, it is not to be regarded as in any sense a complete report on the antiquities of either of these provices[७] अर्थात् मूलतया यह रिपोर्ट काठियावाड़ और कच्छ प्रान्तों के पुरातात्विक विषयों से संबंधित हैं फिर भी इसे अंतिम रिपोर्ट नहीं माना जा सकता है। इसी प्रकार वह इसी पृष्ठ की पाद टिप्पणी में लिखते हैं, कि शत्रुंजय के मंदिरों पर १८६९ में किये गये मेरे कार्य, जिसमें सोमनाथ गिरनार जूनागढ़ इत्यादि से संबंधित ४५ फोटोग्राफ थे, जो सन् १८७० में प्रकाशित भी हुए थे तथा अब इंडिया—ऑफिस, लंदन की कस्टडी में हैं। आगे, इसी पाद टिप्पणी में पुन: लिखते हैं किThe places above referred to require a more detailed examination than was practicable in the circumstances under which the materials were collected for these works. अर्थात् ऊपर संर्दिभत स्थानों का एक बार फिर विस्तृत परीक्षण किये जाने की जरूरत है।

मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है कि लगभग १३५ वर्षों बाद, स्वतंत्र भारत देश के पुरातत्व विभाग ने इस पर अवश्य कार्यवाही की होगी, और उसने काफी सोच विचार के उपरांत ही, इस पुरातत्व रिपोर्ट को ज्यों का त्यों पुन: मुद्रित कर प्रकाशित करने का निर्णय लिया होगा। गिरनार पर्वत वर्तमान गुजरात प्रान्त के जूनागढ़ जिले में स्थित है। इसे काठियावाड़ नाम से भी जाना जाता है। अति प्राचीन काल में इसे सौराष्ट्र (सुराष्ट्र) नाम से पुकारते थे, जहाँ के लोग काफी, भले मानुष के रूप में जाने जाते थे। इसे अंग्रेज शासक ‘सोरठ’ भी कहते थे। इसी काठियावाड़ का आद्यकालीन इतिहास का विवरण देते हुए, जेम्स वर्गीज लिखते हैं— Among the sacred places in the province Prabhas Pattan or Somnath in the south and Dwarka in the exterme west are famous shrines of the Saiva and Vaishnava forms of Brahmans इस प्रान्त के दक्षिण में स्थित प्रभाष पट्टन अर्थात् सोमनाथ, एकदम पश्चिमी छोर पर द्वार का क्रमश: ब्राह्मण समुदाय के शैव और वैष्णव मत के सबसे अधिक पूजनीय एवं प्रसिद्ध स्थल माने जाते हैं, फिर वह आगे लिखते हैं—

Among the high places, the Jains reckon Satrunjaya as their great Thirth or holy place, on the isolated mountain south of Palitans; Taladhvaja, commonly known as Talaja Tekri. The isolated hill at Talaja; Ujjayanta or Raivata, the Famous Mount Girnar in Sorath and Dhank in Halar. Perhaps the Lor or Lauhar hill in Bariawad is also intended by the Lauhitya of their sacred books. From Bhavanath, a short walk leads to the foot of Girnar-the ancient Raivata or Ujjayanta-Sacred among the sravaks or Jain sects to Neminath the twenty second in their list of Tirthankaras,-and doubtless a place of pilgrimage even before the days of Asoka. In his time it probably became a Baudha tirth or sacred place where monasteries were early formed, and cells cut in its granitic scapes for the devotees. After visiting the Mountain fort (Jain Mandir Campus) and giving an brief account of Amba Mata James Burgees described further. The Jaina temples are all beautifully clean inside, this of Amba is filthy with smoke, and seems scarely ever to have been swept since the Bhuddhist or Jainas had to leave it. This summit is of but small extent and at a short distance eastward there is a..... सभी जैन मंदिरों की अंदर एवं बाहर काफी सावधानीपूर्वक साफ सफाई कर अच्छा बनाकर रखा गया है जबकि अंबा माता (मंदिर) का गंदगी और धुएँ से भरा हुआ है। ऐसा लगता है कि जब से बौद्धों अथवा जैनों से इसे छोड़ा है इसकी साफ सफाई तक नहीं की गई है।

अम्बा माता मंदिर अर्थात् दूसरी टौंक का भ्रमण करने के पश्चात् वर्गीज महोदय गिरनार पहाड़ की अन्य टौंकों का विवरण देते हुए लिखते हैं कि— इसका घेरा (फैलाव—इक्सटेन्ट) काफी छोटा अर्थात् कम है और इसके बाद थोड़ी ही दूरी पर पूर्व दिशा में आकाश की ओर एक खड़ी दीवार जैसी ऊपर उठी चट्टान दिखाई देती है। इससे थोड़ी ही दूरी पर आगे एक ओर दूसरी चट्टान, जिसका ढ़ाल पहली वाली से थोड़ा कम है परन्तु उसी के समान ऊँची लगती है, स्थित हैं। दोनों चट्टानें ग्रेनाइट पत्थर की हैं और एकदम नंगी वनस्पतिविहीन हैं। सबसे अंत में काफी आगे तीसरी परन्तु इनसे कम ऊँचाई की चोटी स्थित है। यही क्रमश: गोरखनाथ टोंक, दत्तात्रेय अर्थात् नेमीनाथ और कालका शिखर की टोंके हैं। अम्बा माता से लगभग ७० फुट नीचे उतरने के पश्चात् और फिर इससे लगभग तीन गुना ज्यादा चढ़ाई को सीढ़ियों से चढ़कर हम समुद्रतल से ३४७० फुट की ऊँचाई के लेवल पर पहुँच जाते हैं—पूरी तलहटी काटेदार झाड़ियों से भरी होने से इनके बीच से रास्ता बनाकर यात्रियों को चढ़ाई करनी पड़ती है–प्रत्येक तीर्थयात्री इस चोटी पर चढ़ने......... के प्रयास में अपने कपड़ों को फटकर टुकड़े—टुकड़े होने देता है और इन कटे टुकड़ों को काँटेदार झाड़ियों में लटकने हेतु छोड़कर अपनी जान हथेली पर लिये हुए आगे की ओर चढ़ाई चढ़ता जाता है। इस दूसरी और सबसे ऊँची चोटी पर एक छोटी सी पर संभवत: तीन वर्गफुट आकार की गोरखनाथ की समाधि र्नििमत है जो परम्परा के अनुसार बौद्ध गुरू मत्स्येन्द्रनाथ के शिष्य अथवा अनुयायी थे और अपने विद्यार्थी से कम सदाचारी व्यक्ति माने जाते हैं। हमें इस चोटी से पूरे चार सौ फुट नीचे उतरकर आना पड़ता है—यह स्थान पहाड़ पर स्थित कमण्डलु कुण्ड के जलाशय के लेवल के बराबर है और यहीं से पुन: ऐसी भीषण चढ़ाई, जिसमें कि यात्री की सांस फूल जाये और पैर थकान से जवाब दे जायें, गुरू दत्तात्रेय की चोटी की चढ़ाई की ओर आगे बढ़ना पड़ता है। चढ़ाई चढ़ते हुए रास्ते भर छोटे—छोटे पत्थरों कंकड़ों के ढ़ेर मिलते हैं जो यात्रियों द्वारा यहाँ छोड़े गये होते हैं। अंत में इतनी खड़ी चढ़ाई आती है कि चढ़ने के लिये पैरों के साथ—साथ हथों का सहारा लेना पड़ता है और अंतत: चोटी के शिखर पर पहुँच ही जाते हैं। यहाँ चट्टान को काटकर नेमिनाथ की पादुकाएँ उकेरी हुई हैं। इन्हें एक छोटे से चारों ओर से खुले हुए मंडप से ढंका हुआ है। इसकी देखभाल एक नगा सन्यासी करता है, इसके पास ही बगल में एक भारी घंटा टंगा हुआ है।

इन्हीं, नेमिनाथ या अरिष्टनेमी के

नाम से एक चोटी (टोंक) को जाना जाता है और यह पाँचवी टोंक के नाम से भी प्रसिद्ध है तथा इसी वजह से यह पूरा पर्वत जैनों में पवित्र एवं वंदनीय माना जाता रहा है जो कि इनके बाईसवें तीर्थंकर के देवत्व (मोक्ष) प्राप्त करने का स्थान है। मोक्ष प्राप्त करना अर्थात् ऐसा मनुष्य जिन्होंने सफलतापूर्वक कठोर तपस्या करके जैसा कि ये (जैन) मानते हैं, ने अपने सभी पापों (कर्मों) का क्षय करके निर्वाण प्राप्त किया था। इसीलिये यह जगह दिगम्बर अर्थात् नग्न जैनों का सबसे प्रिय (पूज्यनीय) स्थान है। जैसे कि इनकी (जैनों) सोच है इनका रंग श्यामवर्ण का था और इनकी र्मूितयाँ भी अधिकांशत: इसी रंग (श्यामवर्ण) की मिलती हैं। यह भी एक राजकुमार थे। जो कुशावर्त राज्य अर्थात् शौरीपुर राज्य के राजा समुद्रविजय के पुत्र और हरिवंशीय ही थे। इनके पिता, सुप्रसिद्ध ‘कृष्ण’ के पिता वासुदेव के सगे भाई थे। अत: यह कृष्ण के चचेरे भाई थे। इन्होंने तीन सौ वर्ष की उम्र में साँसारिक जीवन को त्याग कर द्वारका नगरी छोड़ दी थी और गिरनार चले आये। यहीं पर इन्होंने अपने दीर्घ जीवन के शेष सात सौ वर्ष कठोर तपस्या में व्यतीत किये। भैरों जप नामक स्थान की पूर्व दिशा में भी इन्हीं नेमिनाथ (अन्य लोग इन्हें रामानंद का बताते हैं) की पादुकाऐं (चरण चिन्ह) उत्कीर्ण है, जहाँ से इन्हें ‘‘बोधि’’ अर्थात् सर्वज्ञता की प्राप्ति हुई थी। राजा दत्तारी ने सबसे पहले इनसे धर्म की दीक्षा ली थी, इसी कारण से वह (नेमिनाथ) उनके गुरू बन गये। इसके पश्चात् धीरे—धीरे इन्होंने (नेमिनाथ) आध्यात्मिक उन्नति करके, तीर्थंकर का पद प्राप्त किया और अंतिम समय इस निर्जन चट्टान की चोटी से निर्वाण प्राप्त किया। इसी कारण से इस टोंक को इनके नाम (नेमिनाथ टोंक) से जाना जाता है। अम्बा माता इनकी मुख्य संरक्षक देवी अर्थात् यक्षी हैं जिनका एक पुराना मंदिर पहली टोंक पर इन्हें सर्मिपत हैं। श्रावकों द्वारा आम के वृक्षों को लगाकर (रोपकर) इन्हें श्रद्धापूर्वक सर्मिपत करने की पृथा भी यहाँ हैं। यद्यपि इनकी पहचान ‘‘शंख’’ चिन्ह से होती है। वस्तुत: यह जैनों के कृष्ण हैं। परन्तु शिखर पर चढ़ने वाले सभी तीर्थयात्री ऐसी ही श्रद्धा या भक्ति भाव रखते हो, ऐसा यहाँ देखने को नहीं मितला। जो नागा साधु यहाँ वेदी (मंडप) के पास रहता है, वह श्रावक अर्थात् जैन नहीं हैं। इसी प्रकार जो वैष्णव भक्त द्वारका तीर्थ की यात्रा पर आते हैं उनके मत के साधु भी गुरूदत्तात्रेय से मनौती मांगने या पूरी होने के उपलक्ष्य में यहाँ आते जाते रहते हैं।..... दत्तात्रेय (नेमीनाथ) चोटी की ऊँचाई (समुद्रतल से) ३४५० फुट है जो गोरखनाथ चोटी से लगभग २० फुट कम है।....... पूर्व की ओर एक ओर चोटी रेणुका शिखर है और सबसे आखिरी कालका चोटी है।

(४) केप्टन एच. विलबोन्र्स बेल, राजनैतिक प्रतिनिधि, सोरठ'

यह अंग्रेज विद्वान सोरठ प्रांत के पालिटिकल एजेन्ट थे जिनका संबंध सीधा जूनागढ़ की रियासत से था। इसी जूनागढ़ रियासत में गिरनार आता है अत: इनका लिखा इतिहास भी महत्त्वपूर्ण है। वह लिखते हैं—

ome Holy Places And so from time immemorial Kahiawad has been the land to which all good HINDUS who could take advantage of the blessing a pilgrimage to holy land carried, have come countless in number. These pilgrim have.......The Sect of Jains reverse the holy hills of Palitana and Girnar, whereas madhavpur, Tulshyam, Dwarka and Sudampuri (The modern Porbandar) have attracted all HINDUS of Whatever denomination.[८] (५) वाल्टर हेमिल्टन गुजरात प्रायद्वीप का वर्णन करते हुए वे लिखते हैं— he mountains here are few and no remarkable elevation...... The mountain of Pulletana, in Goelwar, for the Shrawuck temples on its summits. The loftiest of the Junagarh hills (named in Sanskrit Rewtachil) is sacred, and surround by others of a smaller size vallies intervening.[९] यहाँ पर पहाड़ वैसे भी कम ही हैं, जिसमें से कोई भी असाधारण रूप से ज्यादा ऊँचाई वाले नहीं हैं। गोयलवार के पालिताना शिखर पर श्रावकों के मंदिर उल्लेखनीय हैं। सबसे ऊँचा जूनागढ़ का पहाड़ (संस्कृत में रैवाताँचल) भी अत्यन्त पवित्र यानि वंदनीय स्थाल है। इसके चारों और छोटे—छोटे पहाड़ों की घाटियाँ हैं।

(स) हिन्दू लेखक

जनवरी १९५७ में कल्याण पत्रिका ने भारतवर्ष के सभी सम्प्रदायों, जैसे कि हिन्दू, बौद्ध और जैनों के प्राय: सभी तीर्थों का विवरण दिया गया है।[१०] इसमें पृष्ठ ४२० से ४२३ तक ‘जूनागढ़ गिरनार’ शीर्षक से गिरनार की चढ़ाई का जो विवरण दिया है, उसमें प्राचीन जैन और हिन्दू (सनातन धर्म) तीर्थों का विवरण है। इसमें ‘‘नेमिनाथ—शिखर’’ का यानि पाँचवी टोंक का भी वर्णन है, जो निम्न प्रकार है—

नेमिनाथ शिखर

गोरक्ष शिखर से नीचे उतरकर दत्त शिखर जाने से पहले जैन यात्री इस शिखर पर जाते हैं। इस पर चढ़ने के लिय सीढ़ियाँ नहीं है। इस पर नेमिनाथ जी की काले पत्थर की र्मूित है और दूसरी शिला पर उनके चरण चिन्ह हैं। यहाँ की चढ़ाई कठिन है। कुछ लोग मानते हैं कि नेमिनाथ जी यहीं से मोक्ष गये हैं। कुछ लोग दत्त शिखर को उनके मोक्ष का जाने का स्थान मानते हैं।

गोरक्ष शिखर

अम्बिका शिखर से थोड़े ऊपर यह शिखर है। यहाँ गोरखनाथ ने तपस्या की थी। यहाँ पर गोरखनाथ की धुनी तथा उनके चरण चिन्ह हैं।......यहाँ नेमिनाथ के चरण चिन्ह भी हैं।

दत्त शिखर

गोरक्ष शिखर से लगभग ६०० सीढ़ी नीचे उतरकर फिर ८०० सीढ़ी ऊपर चढ़ना पड़ता है। यहाँ गुरु दत्तात्रेय का तप: स्थान है। इस शिक्षर पर दत्तात्रेय की चरण—पादुकाएँ हैंं यहाँ भी जैन बंधु आते हैं। कुछ लोग मानते हैं कि नेमिनाथ जी यहीं से मोक्ष गये थे। कुछ लोग उनका मोक्ष स्थान आगे का शिखर मानते हैं और यहाँ से अन्य बहुत से मुनि मोक्ष गये ऐसा मानते हैं। एक शिला में एक जैन र्मूित यहाँ बनी है। यहाँ एक बड़ा घंटा है।

धर्मशास्त्र का इतिहास

इस ग्रंथ के पृ. १४०८ पर दी गई तीर्थ सूची में उज्जयन्त का वर्णन निम्नवत् है— उज्जयन्त : (सौराष्ट्र में द्वारका के पास) वन. ८८/२१-२४, वायु, ४५/९२ एवं ७७/५२, वाम. १३/१८, स्कन्ध, ८/२/११ एवं १५ (वस्त्रापथ क्षेत्र की दक्षिण)। देखिये ए. जे. .....पृष्ठ ३२५[११]

रैवतक

(गिरनार के सम्मुख जूनागढ़ की पहाड़ी) आदि २१८/८ (प्रभाष के पास) एवं अध्याय २१९ (वृष्णयन्धकों द्वारा उत्सव मनाये जाते थे), सभापर्व १४१०, वराह १४९/६६, स्कन्ध, ४/२/१/६८, वस्त्रापथ में (सोमनाथ के पास उद्यन्त पहाड़ी का पश्चिमी भाग), मत्स्य ०२२/७४ रैवतक अर्थात् आधुनिक गिरनार, जैनों का एक अति पवित्र स्थल है, किन्तु आधुनिक द्वारका इससे लगभग ११० मील दूर है। मूल द्वारका, जो समुद्र द्वारा बहा दी गई, अपेक्षाकृत समीप में थी पार्टीजर महोदय (पृष्ठ २८९) को दो द्वारकाओं का पता नहीं था, अत: उन्होंने काठियावाड़ के पश्चिम कोण में हलार में वरदा पहाड़ी को रैवतक कहा है। स्कन्ध गुप्त के जूनागढ़ शिलोलख (४५५-४५८ ई.) में पलासिनी नदी को बटक के सामने उर्जयंत से निर्गत कहा गया है[१२]

CORPUS INSCRIPTIONUM INDICARUM VOL-III (Revised), 1981

(Inscriptions of the early Gupta Kings)[१३] JUNAGARH ROCK Inscription of Skandagupta Year 136 & 138, i.e. 456-57 A.D. Page 298 The other places of interest mentioned in the inscription are the two mountains Raivataka and Urjayat, the river Palasini and the town which was connected with the lake Sudarshan. The actual name of this town has not given but it was Girinagar as appears from line of Rudradaman's inscription. That it was rightly called Girnagar is clear from verse 46 where we are told that it was situated about the foot of Mount Urjayat. Merutunga's Prabandhachintmani, while describing the animosity between the Digambara and Svetambara sects of Jainism at Raivataka, speaks of Ujjayanta (= Urjayat) as another nmme of it and of Girinagar as being settled upon it. But according to the Kathiawad Volume of the B.G. (Bombay Gazetteer Vol-3). ``The ancient name of the Girnar hill is Ujjayanta or Girnar, but not Revatchal as is sometimes supposed. Revatchal is the name of the hill immediately over Revat Kund. At the foot of the hill is the celebrated Asoka Stone with the inscription of Asoka Rudradama and Skand Gupta........... The Jains some times incorrectly apply the name Revatachal to the Girnar. The agrees with what we gather from the inscription which distringuishes between Raivataka and Urjayat and places and town (Girinagar) at the foot of Urjayat. This also explains why Ujjayanta came in later times to be known as Girnar hill. This further explains why the inscription of Rudradaman mentions Girinagar as being distant (dura) from the Sudarshan lake.......

गुजरात के यादव[१४]

अनेक यादव अर्हतों या जैनों का धर्म पालन करते थे। उनके अपने तीर्थस्थल अपनी उपासना पद्धति और र्धािमक नेता थे। वे गणतंत्र की शासन प्रणाली अपनाये हुये थे। वसुदेव के सबसे बड़े भाई समुद्रविजय थे। इनके पुत्र नेमिनाथ जैनों के २२वें तीर्थंकर हुए। इस प्रकार नेमिनाथ और श्रीकृष्ण परस्पर सगे चचेरे भाई थे और समकालीन थे। यादवों का बड़ा समुदाय निरामिष भोजी और जैन धर्म में दीक्षित था।......! डॉ. नगेन्द्र नाथ बसु और डॉ. बार्नेट भी नेमिनाथ और कृष्ण को एक दूसरे का चचेरा भाई मानते हैं। हम पहले भी लिख चुके हैं कि जैन समुदाय तथा यादव समाज का जैन से ही गहरा सम्बन्ध रहा है। ब्राह्मणवादी पाखंडों का जिस महापुरुष ने भी विरोध किया, यादव कुल उसी की रक्षा एवं सहयोग में आ खड़ा हुआ है। भगवान महावीर तो जैनों के अंतिम तीर्थंकर हुये हैं। उससे पहले भी अिंहसा को परम धर्म मानने वाले जैन समुदाय के तेईस तीर्थंकर हुये हैंं तीर्थंकरों उनमें आठ—नौ का तो हरिवंश पुराण तथा जैन ग्रंथों में केवल यादव कुल में उत्पन्न होने का स्पष्ट वर्णन मिलता है। जैन मत के बाइसवें तीर्थंकर श्री नेमिनाथ जी जो कि योगीराज भगवान श्री कृष्ण के चचेरे भाई थे, उन्होंने आज के भवनाथ तीर्थ रैवतगिरि पर दीक्षा लेकर उज्जयंत पर्वत पर घोर तप एवं सिद्धियाँ प्राप्त की हैं।[१५] निष्कर्ष—उपरोक्त सभी प्रमुख अजैन विद्वान लेखकों के कथन से गिरनार पहाड़ के बाबत निम्न तथ्य सिद्ध होते हैं।

(१) गिरनार सम्राट अशोक के पूर्व से यानि चन्द्रगुप्त मौर्य के समय से एक ‘‘जैनतीर्थ’’ था और जैन तीर्थयात्री इस पहाड़ की यात्रा पर आते जाते थे। (२) राजा संप्रति, जो कि सम्राट अशोक का प्रपौत्र था, ने गिरनार पर्वत पर एक जैन मंदिर बनवाया था। यह मंदिर मूलतया लकड़ी का बना हुआ था। बाद में कभी इसका जीर्णोद्धार कर ‘‘पत्थर’’ का बनवाया गया था। यह प्राचीन मंदिर ‘गिरनार—परिसर’ (पहली टोंक) पर ‘राजा—संप्रति’ मंदिर के नाम से आज भी स्थित है। (३) चरण—वंदना/प्रदक्षिणा करने की परिपाटी काफी प्राचीन है। इस बाबत ईस्वी प्रथम शताब्दी में जन्में विश्व प्रसिद्ध कवि कालिदास की कृति ‘‘मेघदूत’’ नामक काव्य (पूर्व मेघ) के श्लोक संख्या ५५ में (हिमालय पर्वत पर) निम्न प्रकार का वर्णन उल्लेखनीय है—

तत्र व्यत्तंकं दृषदि चरण न्यासमर्धेन्दु मौले:।

श्श्वत सिद्धै रूपचित बिंल भक्तिनम्र: परीया:।।
तस्मिनदृष्टे करण विगमा दूध्र्वमुद् धूत पापा:।
संकल्पन्ते स्थिर गण पद प्राप्तये शृददधाना।।५५।।

हिन्दी अनुवाद

हे मेघ. वहाँ शिला पर स्पष्ट तथा सदा सिद्धों से पूजित भगवान् शंकर के ‘‘चरण—चिन्ह’’ हैं, तुम भी नम्र होकर उनकी प्रदक्षिणा करना। जिसके दर्शन मात्र पर पापों से छूटे हुए श्रद्धावान पुरुष देह त्याग के अनन्तर सदा के लिये स्थिर गणों का पद प्राप्त करने में समर्थ हो जाते हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि प्राचीन काल में ‘‘चरण—चिन्ह’’ पूजने की प्रथा हिमालय से लेकर संपूर्ण भारत में प्रचलित थी। जिसका अन्य कई प्राचीन उदाहरणों में से एक महाभारत कालीन गिरनार पर्वत (उज्जयन्त) पर पाई जाने वाली चरण—पादुकायें भी हो सकती हैं। इनकी पूजा जैन–सम्प्रदाय में कम से कम सम्राट अशोक के पूर्व से चली आना सिद्ध होती है। संक्षिप्त : गिरनार अत्यन्त प्राचीन जैन परम्परा द्वारा पूजित तीर्थ है।

टिप्पणी

  1. मिरात—इ. सिकन्दर का यह उद्धरण ले. कर्नल ए. वाकर तत्कालीन अंग्रेज रेजीडेन्ट बड़ौदा रियासत द्वारा, १२ जनवरी, १८०८ को बॉम्बे के गवर्नर की रिपोर्ट के पृष्ठ १७७ से उद्धृत है।
  2. तदैव—Appendix to P-198.
  3. ग्लेडिवन का यह उद्धरण जेम्स टाड द्वारा लिखित Travels in Western India, 1839, Landon, P. 360-361 से उद्धृत है।
  4. यह लेख कर्नल विलियम मिल्य द्वारा मिरात—इ—अहमदी नामक फारसी पुस्तक का अंग्रेजी में अनुवाद कर रायल एशियाटिक सोसायटी लंदन, खंड—३, १८३५ में गुजरात एवं काठियावाड़ के जैन मंदिर शीर्षक से पृ. ३३५-३७१ पर प्रकाशित है।
  5. Travels in Western India, James Tad, 1822 A.D. P. 379
  6. Random Sketches of my Travels in Western India, Two Volumes, Volume-2, 1838 A.D., P-37
  7. Report of the antiquities of Kathiawad and Kachh, by James burgies, 1876, Reprinted by archaeological Survery of India, N. Delhi, 1998 Preface.
  8. The History of Kathiawad from Eartliest Time. 1915
  9. East India Gazetteer of Hindostan by Waster Hemilton, London, 1828, P. 598
  10. कल्याण’ मासिक तीर्थांक, गोरखपुर, जनवरी १९५७, पृ. २१
  11. धर्मशास्त्र का इतिहास, डॉ. पाण्डुरंग वामन काणे, उत्तर प्रदेश, हिन्दी संस्थान, लखनऊ
  12. Corpus Inscritipunm Indicarum, Vol III Revised, P 64
  13. Corpus Inscriptionum Indicarum, Vol III Inscriptions of Early Gupta Kings, A.S.I., New Delhi. P. 298
  14. गुजरात के यादव, स्वामी सुधानंद योगी, योग आश्रम, लालपुर (अलवर) २०११, पृ. ३८
  15. वही, पृ. ११२


कैलाशचंद्र जैन
सेवा निवृत्त अभियन्ता—लो. नि. वि. (उ. प्र.) ५ गिरधर नगर (तिलकनगर) इंदौर—१८
अक्टू.—दिस. २०१३ पेज नं. ४१-५०