Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

चंदनामती माताजी के भजन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भजन नं.१ से २१ नं. तक


शिवपथ पे हैं चली ,नाजों में हैं जो पली ...-भजन नं.१

हम सबकी प्रेरिका है ये चंदनामती माँ ...-भजन नं.२

हैं ज्ञानमती माता के युग की ये चंदना...-भजन नं.३

नमन करूँ मैं नमन करूँ, गुरु चरणों में नमन करूँ ...-भजन नं.४

दीक्षा जयंती का शुभ मंगल अवसर ...-भजन नं.५

मनाओ रजत जयंती, दीक्षा के अनुपम ...-भजन नं.६

आओ आओ सब नर-नारी, गुरुभक्ति की बेला प्यारी ...-भजन नं.७

गुरु ही ब्रह्म है,गुरु ही सत्य है...-भजन नं.८

ज्ञानमती माताजी की ये शिष्या ...-भजन नं.९

बार-बार तोहे शीश नवाऊँ ...-भजन नं.१०

आई दीक्षा जयंती आज ...-भजन नं.११

Silver jubilee of deeksha...-भजन नं.१२

आज हम वंदन करते है ...-भजन नं.१३

दीक्षा का पावन दिवस,मंगलमयी आज है ...भजन नं.१४

है प्रमुदित धरती और अम्बर...-भजन नं.१५

चलो मिलकर मनाएँ हम ये दीक्षा रजत जयंती ...-भजन नं.१६

आई दीक्षा रजत जयंती ...-भजन नं.१७

प्रज्ञाश्रमणी मात चंदनामती परम गुणवान ...-भजन नं.१८

आँखों में ममता है, अंतर में समता है ...-भजन नं.१९

हे चंदनामती माँ,शत - शत तुम्हें है वंदन ...-भजन नं.२०

तीर्थ हस्तिनापुर में चारों ओर खुशी है-भजन नं.२१