Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

चंद्रप्रभ की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'भगवान श्री चंद्रप्रभ की आरती

111.jpg 221.jpg

तर्ज—आरति करूँ चौबीस जिनेश्वर.......

आरति करूँ श्री चंद्रप्रभु की, आरति करूँ प्रभु जी ।टेक.।।
पहली आरति गर्भकल्याणक-२
पन्द्रह मास रतनवृष्टी की, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।१।।
दूजी आरति जन्मोत्सव की-२
मेरू सुदर्शन पर अभिषव की, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।२।।
तीजी है निष्क्रमण दिवस की-२
लौकांतिक सुर अनुमोदन की, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।३।।
चौथी आरति केवलि प्रभु की-२
द्वादशगणयुत समवसरण की, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।४।।
पंचम आरति पंचम गति की-२
मोक्ष धाम संयुत जिनवर की, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।५।।
पंचकल्याणकपति प्रभु तुम हो-२
नाश किया संसार भ्रमण को, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।६।।
आरति से भव आरत छुटता-२
करें ‘‘चंदनामति’’ प्रभु वन्दन, आरति करूँ प्रभु जी।।आरति.।।७।।