Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल पदार्पण जन्मभूमि टिकैतनगर में १५ नवंबर को

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

चक्रवर्ती की राजसभा में, राजा आए बड़े-बड़े

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चक्रवर्ती की राजसभा में, राजा आए बड़े-बड़े।

Raj sabha.jpg
तर्ज-देखो तेरहद्वीप के अंदर.........

चक्रवर्ती की राजसभा में, राजा आए बड़े-बड़े।
इन्द्रदेव सब किंककर बनकर, स्तुति करते खड़े-खड़े।।चक्रवर्ती.....
देखो शांतिनाथ जिनवर ने, छह खंड वसुधा जीत लिया।
चक्ररत्न के द्वारा उनने, चक्रवर्ति पद प्राप्त किया।।
उनके चक्ररत्न के आगे, झुक गये राजा बड़े-बड़े।
चक्रवर्ती की राजसभा में, राजा आए बड़े-बड़े।।१।।
ये तो चक्रवर्ति तीर्थंकर, कामदेव कहलाते हैं।
भौतिक एवं आध्यात्मिक, दोनों सुख इनको भाते हैं।।
इनके सम्मुख भेंट चढ़ाने, राजा आये बड़े-बड़े।
चक्रवर्ती की राजसभा में, राजा आए बड़े-बड़े।।२।।
आज पुन: हस्तिनापुरी में, वही दृश्य दिखलाए हैं।
शांतिनाथ की सभा में राजा, देश देश से आए हैं।
आशिर्वाद मिले हम सबको, विनती करते खड़े-खड़े।
चक्रवर्ती की राजसभा में, राजा आए बड़े-बड़े।।३।।

Phool.jpg