चतुर्दिक मुखदर्शन

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चतुर्दिक मुखदर्शन
Four sided face-a supernatural bliss of Lord Arihant.

अर्हंत भगवान का केवलज्ञान का एक अतिशय ; सबकी ओर मुख करके स्थित होना ।