Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


आचार्य शांतिसागर मुनि दीक्षा शताब्दी वर्ष समारोह का 20 मार्च को मध्यान्ह 4 से 5 पारस पर हुआ सीधा प्रसारण- देखें जिओ टीवी.पर

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

चम्पापुर तीर्थ की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चम्पापुर तीर्थ की आरती

111.jpg 221.jpg
तर्ज—चांद मेरे आ जा रे .............



तीर्थ की आरति करते हैं-२
वासुपूज्य की जन्मभूमि, चम्पापुर को जजते हैं।।टेक.।।
प्राचीन संस्कृति की ये, दिग्दर्शक मानी जाती ।
हुआ धर्मतीर्थ का वर्तन, शास्त्रों में गाथा आती ।।
धरा वह पावन नमते हैं-२
वासुपूज्य की जन्मभूमि, चम्पापुर को जजते हैं।।१।।
वसुपूज्य वहां के राजा, उनकी थीं जयावती रानी।
उनकी पावन कुक्षी से, जन्मे थे अन्तर्यामी ।।
जन्म की वह तिथि भजते हैं-२
वासुपूज्य की जन्मभूमि, चम्पापुर को जजते हैं।।२।।
बचपन से यौवन काया, प्रभु वासुपूज्य ने पाया।
पर नहीं पंâसे विषयों में, अरु बालयती पद पाया।।
दीक्षा की वह तिथि नमते हैं-२
वासुपूज्य की जन्मभूमि, चम्पापुर को जजते हैं।।३।।
चम्पापुर के ही निकट में, मंदारगिरी पर्वत है।
दीक्षा व ज्ञान से पावन, निर्वाणक्षेत्र भी वह है।।
सिद्धभूमी को भजते हैं-२
वासुपूज्य की जन्मभूमि, चम्पापुर को जजते हैं।।४।।
हैं वर्तमान में दोनों प्रभु वासुपूज्य के तीरथ।
हर भव्यात्मा को दर्शन, से प्रकटाते मुक्तीपथ।।
मुक्ति हेतू हम यजते हैं-२
वासुपूज्य की जन्मभूमि, चम्पापुर को जजते हैं।।५।।