Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल पदार्पण जन्मभूमि टिकैतनगर में १५ नवंबर को

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

चरित्त :

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


चरित्त :

चारित्तं समभावो
—पंचास्तिकाय : १०७

समभाव ही चारित्र है।

असुहादो विणिवित्ती, सुहे पवित्ती य जाण चारित्तं।
—द्रवसंग्रह : ४५

अशुभ से निवृत्ति और शुभ में प्रवृत्ति करना—इसे ही चारित्र समझना चाहिए।

थोवम्मि सिक्खिदे जिणइ, बहुसुदं जो चरित्तसंपुण्णो।

जो पुण चरित्तहीणो, िंक तस्स सुदेण बहुएण।।

—मूलाचार : १०-६

चारित्रसम्पन्न का अल्पतम ज्ञान भी अधिक है और चारित्रहीन का बहुत अधिक शास्त्रज्ञान भी निष्फल है