Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

जैन समुदाय के अल्पसंख्यक का दर्जा प्राप्त होने से लाभ

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैन समुदाय के अल्पसंख्यांक दर्जा प्राप्त होने से लाभ

1) जैन धर्म की सुरक्षा होगी।

2) जैन धर्म की नैतिक शिक्षा पढ़ाई कराने का जैन स्कूलो को अधिकार

3) कम ब्याज पर लोन, व्यवसाय व् शिक्षा तकनिकी हेतु उपलब्ध होंगे।

4) जैन कोलेजो में जैन बच्चो के लिए 50 % आरक्षित सीट होगी।

5) जैन समुदाय में अल्पसंख्यांक घोषित होने से सविधान के अनुच्छेद 25 से 30 के अनुसार जैन समुदाय धर्म, भाषा,संस्कृति की रक्षा सविधान में उपलब्धो के अंतर्गत हो सकेगी।

6) जैन धर्मावलंबियो के धार्मिक स्थल, संस्थाओं, मंदिरों, तीर्थ, क्षेत्रो एव ट्रस्ट का सरकारी करण या अधिग्रहण आदि नही किया जा सकेगा अपितु धार्मिक स्थलों का समुचित विकास एव सुरक्षा के व्यापक प्रबंध शासन द्वारा भी किए जायेंगे।

7) उपासना स्थल अधिनियम 1991 ( 42आक- 18-9-91) के तहत किसी धार्मिक उपासना स्थल बनाए रखने हेतु स्पष्ट निर्देश जिसका उलघ्घन धरा 6(3) के अधीन दंडनीय अपराध है ।

8) पुराने स्थलों एव पुरातन धरोहर को सुरक्षित रखना सन 1958 के अधिनियम धारा 19 एव 20 के तहत सुरक्षित हो।

9) समुदाय द्वारा संचालित ट्रस्टो की सम्पति को किराया नियंत्रण अधिनियम से भी मुक्त रखा जाएगा ।

10)जैन धर्मावलम्बी अपनी प्राचीन संस्कृति पुरातत्व एव धर्मस्थलो का सरक्षण कर सकेंगे ।

11) जो प्रतिभावन अल्पसंख्यांक विधार्थी जिले के उत्क्रिस्ट विधालयो में प्रवेश पाते है तो उनमे गरीबी रेखा से निचे जीवनयापन करने वाले विधार्थियो का 9 वि, 10वि, 12वि, का शिक्षण शुल्क एव अन्य लिया जाने वाला शुल्क पूर्णत माफ़ कर दिया जाएगा।

12) जैन मंदिरों, तीर्थ स्थलों, शेक्षणिक संस्थाओं इत्यादि के प्रबंध की जिम्मेदारी समुदाय के हाथ में दी जायेगी।

13) शेक्षणिक एव अन्य संथाओ को स्थापित करने या उनके संचालन में सरकारी हस्तक्षेप कम हो जाएगा।

14) विश्व विद्यालय द्वारा संचालित कोचिंग कोलेजो में समुदाय के विद्यार्थियों को फ़ीस माफ़ या कम होने की प्राप्प्ता होगी।

15) सरकार द्वारा जैन समुदाय को स्कुल, कोलेज, छात्रावास, शोष या प्रशिक्षण संस्थान खोलने हेतु सभी सुविधाए एव रियायती दर पर जमींन उपलब्ध करवाई जायेगी।

16) जैन समुदाय के विद्यार्थियों को प्रशानिक सेवाओं और व्यवसायिक पाठ्यक्रम के प्रशिक्षण हेतु अनुदान मिल सकेगा ।

17) जैन समुदाय द्वारा संचालित जिन संस्थाओं पर कानून की आड़ में बहुसंख्यानको ने कब्जा जमा रखा है उनसे मुक्ति मिलेगी।

18) जैन धर्मावलम्बी द्वारा पुण्यार्थ, प्राणी सेवा, शिक्षा इत्यादि हेतु दान धन कर मुक्त होगा।

19) जैन धर्मावलम्बी को बहुसंख्यानको समुदाय के द्वारा प्रताड़ित किये जाने की स्थति में सरकार जैन धर्मावलम्बी की रक्षा करेगी।

20) अल्पसंख्यांक समुदाय के धार्मिक स्थल के समुचित विकास एव सुरक्षा के व्यापक प्रबंध शासन द्वारा किये जायेंगे।

21) अल्पसंख्यांक वर्ग युवाओं में खेल कूद व् अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में प्रोत्साहन हेतु अनुदान एक छात्रवृत्यियो में विशेष प्रावधानो का लाभ मिल सकेगा, ताकि गरीबी रेखा से निचे आने वाले तथा आर्थिक स्थति से कमजोर वर्ग का शेक्षणिक , सामायिक एव आर्थिक विकास हो सके।

21) अल्पसंख्यांक समुदाय के लिए कराए गए आर्थिक सामाजिक, शेक्षणिक स्थति के सर्वेक्षण के आधार पर रोजगार मूल सुविधा का लाभ मिलेगा ।