Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

तीर्थंकर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीर्थंकर-
जो धर्मतीर्थ का प्रवर्तन करते हैं वे तीर्थंकर कहलाते हैं ।

या

24 Lords of Jaina; propagator of eternal religion. संसार सागर को स्वयं पार करने तथा दूसरों को पार कराने वाले महापुरूष धर्मतीर्थ के प्रवर्तक , पंचकल्याणकों से पूजित , प्रत्येक कल्प (चतुर्थ काल) में वे 24 होते है। जैसे - वर्तमान काल के 24 तीर्थंकर हैं - ऋषभ देव , अजितनाथ, संभवनाथ, अभिनंदननाथ , सुमतिनाथ, पद्मप्रभनाथ, सुपाश्र्वनाथ,, चन्द्रप्रभनाथ, पुष्पदंतनाथ,शीतलनाथ, श्रेयांसनाथ, वासुपूज्यनाथ, विमलनाथ, अनंतनाथ,धर्मनाथ, शांतिनाथ, कुंथुनाथ, अरनाथ,मल्लिनाथ, मुनिसुव्रतनाथ, नमिनाथ, नेमिनाथ, पाश्र्वनाथ एंव महावीर स्वामी । इस प्रकार त्रिकाल की अपेक्षा अंततानंत तीर्थंकर भूतकाल में हो चुके हैं एंव भविष्य में भी होवेंगें।