Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

दर्शन पाठ

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


दर्शन पाठ


Darshan.jpg
 

दर्शनं देवदेवस्य, दर्शनं पापनाशनम् ।
दर्शनं स्वर्गसोपानं, दर्शनं मोक्षसाधनम् ।।१।।

दर्शनेन जिनेन्द्राणां, साधूनां वन्दनेन च।
न चिरं विद्यते पापं, छिद्रहस्ते यथोदकम् ।।२।।

वीतरागमुखं दृष्ट्वा, पद्मरागसमप्रभं ।
नैक जन्मकृतं पापं, दर्शनेन विनश्यति ।।३।।

दर्शनं जिनसूर्यस्य, संसारध्वान्तनाशनम् ।
बोधनं चित्तपद्मस्य, समस्तार्थ प्रकाशनम् ।।४।।

दर्शनं जिनचन्द्रस्य, सद्धर्मामृतवर्षणं।
जन्मदाहविनाशाय, वर्धनं सुखवारिधे: ।।५।।

जीवादितत्त्वं प्रतिपादकाय, सम्यक्त्वमुख्याष्टगुणाणर्वाय ।
प्रशांतरूपाय दिगम्बराय, देवाधिदेवाय नमो जिनाय ।।६।।

चिदानंदैकरूपाय, जिनाय परमात्मने ।
परमात्मप्रकाशाय, नित्यं सिद्धात्मने नम: ।।७।।

अन्यथा शरणं नास्ति, त्वमेव शरणं मम ।
तस्मात् कारूण्यभावेन, रक्ष रक्ष जिनेश्वर ।।८।।

न हि त्राता न हि त्राता, न हि त्राता जगत्त्रये।
वीतरागात्परो देवो, न भूतो न भविष्यति ।।९।।

जिने भक्तिर्जिने भक्तिर्जिने भक्तिर्दिने दिने ।
सदा मेऽस्तु सदा मेऽस्तु, सदा मेऽस्तु भवे भवे ।।१०।।

जिनधर्मविनिर्मुक्तो, माभवं चक्रवर्त्र्यपि।
स्याच्चेटोऽपि दरिद्रोऽपि, जिनधर्मानुवासित: ।।११।।

जन्मजन्मकृतं पापं, जन्मकोटिमुपार्जितम् ।
जन्ममृत्युजरारोगं, हन्यते जिनदर्शनात् ।।१२।।

अद्याभवत्सफलता नयन-द्वयस्य, देव त्वदीय -चरणांबुजवीक्षणेन।
अद्य-त्रिलोकतिलक! प्रतिभासते मे, संसारवारिधिरयं चुलुकप्रमाणं ।।१३।।