दर्शन - ज्ञान-चारित्र

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दर्शन - ज्ञान-चारित्र
Three jewels of Jainas (Right faith, Right knowledge & Right conduct ). रत्नत्रय सम्यग्दर्शन, सम्यग्ज्ञान और सम्यग्चारित्र इन तीनों गुणों को रत्नत्रय कहते हैं।