दिगम्बर जैन परम्परानुसार तीर्थंकर भगवान चातुर्मास नहीं करते !

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिगम्बर जैन परम्परानुसार तीर्थंकर भगवान चातुर्मास नहीं करते !

लेखिका-आर्यिका चंद्नामती

जैनशासन के वर्तमानकालीन २४वें तीर्थंकर भगवान महावीर के बारे में अनेक प्रकार की भ्रांतियाँ समाज में व्याप्त हैं। जैसे-उनका ब्राह्मणी के गर्भ से त्रिशला के गर्भ में इन्द्र द्वारा गर्भहरण कराना, विवाह होना, दीक्षा के बाद यत्र-तत्र विचरण करते हुए चण्डकौशिक नाग द्वारा उन पर विष छोड़ा जाना एवं जनसाधारण द्वारा यातनाएँ दिया जाना,.......इत्यादि।

भ्रांतियों की इसी शृँखला में कुछ लोगों ने भगवान महावीर के ४२ चातुर्मास लिख दिए हैं, जबकि दिगम्बर जैन ग्रंथों में कहीं भी उनके चातुर्मासों का उल्लेख नहीं है इसलिए दिगम्बर जैन साधु-साध्वियों एवं आगमज्ञाता विद्वानों को, लेखकों को इस विषय पर गंभीरता से चिंतन करना चाहिए।

पंडितप्रवर श्री सुमेरचंद जैन दिवाकर ने ‘‘महाश्रमण महावीर’’ नामक ग्रंथ में तीर्थंकरों के चातुर्मास के निषेध का उल्लेख करते हुए स्पष्ट लिखा है कि- ‘‘वर्धमान चरित्र में कहा है-

परिहारविशुद्धि-संयमेन प्रकटं द्वादश वत्सरांस्तपस्यन्।

स निनाय जगत्रयैक बंधुर्भगवान् ज्ञातिकुला-मलांबरेंदु:।।१२७।।(सर्ग१७)

अर्थात् परिहारविशुद्धि संयम को प्राप्त करके बारह वर्ष तक तपस्या करते हुए भगवान तीनों लोकों के बंधु ज्ञातृवंश के निर्मल आकाश के चंद्रमा सदृश सुशोभित होते थे।

इसी संयमी का वर्षाकाल में विहार-इस परिहारविशुद्धि संयम की यह विशेषता है कि वह मुनि-‘‘सदापि प्राणिवधं परिहरति’’ सदा प्राणियों के वध का परिहार करता है (गो.जी.सं. टीका, पृ. ८८१)। इस संबंध में यह भी लिखा है कि परिहारविशुद्धि संयमी रात्रि को विहार छोड़कर तथा संध्या के तीन समयों को बचाता हुआ सर्वदा दो कोस प्रमाण विहार करता है। इस संयमी के लिए वर्षाकाल में विहार त्याग नहीं कहा गया है क्योंकि इस ऋद्धि के द्वारा वर्षाकाल में जीव का घात नहीं होता है इसलिए इस संयम को प्राप्त महान साधु वर्षाकाल में भी आसक्ति,मोह, ममता आदि का परित्याग कर भ्रमण करता है। गोम्मटसार संस्कृत टीका में लिखा है-

परिहारद्र्धिसमेतो, जीव: षट्कायसंकुले विहरन्।

पयसेव पद्मपत्रं, न लिप्यते पापनिवहेन।।

परिहारविशुद्धि संयुक्त जीव-मुनि छह कायरूप जीवों के समूह में विहार करता हुआ जैसे कमलपत्र जल से लिप्त नहीं होता, उसी प्रकार वह पाप से लिप्त नहीं होता। इस संयम के धारक के विषय में उपरोक्त बात लिखी है, तब यह स्पष्ट है कि परिहारविशुद्धि संयम समन्वित साधुराज वर्षाकाल में चातुर्मास में एकत्र निवास करने के बंधन से विमुक्त हैं।

ऐसी स्थिति में परिहारविशुद्धि संयम को प्राप्त करने वाली आध्यात्मिक विभूति भगवान महावीर के चातुर्मासों की कल्पना औचित्यशून्य हैै। कोई-कोई तो केवलज्ञान के ३० वर्ष प्रमाणकाल में भी चातुर्मासों की चर्चा करते हैं। महावीर भगवान जब परिहारविशुद्धि संयम को प्राप्त कर चुके हैं, तब उनका चातुर्मासों में एकत्र निवास मानना सर्वज्ञ कथित दिगम्बर आगम के प्रतिकूल है।’’

इस प्रकार से पं. श्री सुमेरचंद्र दिवाकर ने तीर्थंकरों के मुनि अवस्था में एवं केवली अवस्था में चातुर्मास का खंडन दिगम्बर जैन आगम ग्रंथों से किया है। गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी भी कहा करती हैं कि आचार्य श्री शांतिसागर जी महाराज के प्रथम पट्टशिष्य मेरे गुरुदेव आचार्यश्री वीरसागर जी महाराज भी कहा करते थे कि तीर्थंकर भगवान मुनि अवस्था में चातुर्मास नहीं करते हैं तो केवली अवस्था में चातुर्मास का तो प्रश्न ही नहीं उठता है। केवल श्वेताम्बर परम्परानुसार ही तीर्थंकर महावीर स्वामी के मुनि अवस्था के १२ एवं केवली अवस्था के ३० ऐसे ४२ चातुर्मास माने हैं।

इसके अतिरिक्त भी आचार ग्रंथों में जहाँ जिनकल्पी एवं स्थविरकल्पी मुनियों का वर्णन आता है तो जिनेन्द्र भगवान के समान चर्या का पालन करने वाले मुनियों को ही जिनकल्पी की संज्ञा प्रदान की गई है। वे भी चातुर्मास में विहार कर सकते हैं। उससे स्पष्ट ज्ञात हो जाता है कि साक्षात् जिनचर्या को पालने वाले जिनेन्द्र भगवान की तुलना तो किन्हीं साधारण मुनियों से की ही नहीं जा सकती है।

पद्मपुराण में कथानक आया है कि चारणऋद्धिधारी सप्तऋषि मुनिराज चातुर्मास के मध्य मथुरा से अयोध्या में आहार करने गये तो वहाँ मंदिर में विराजमान द्युति आचार्यदेव ने भक्तिपूर्वक उनकी वंदना की......आदि।

उपर्युक्त प्रमाणों से स्पष्ट परिलक्षित होता है कि भगवान महावीर ने दिगम्बर जैन आगम मान्यतानुसार कहीं पर कोई चातुर्मास सम्पन्न नहीं किया, प्रत्युत् वे उग्रोग्र तपस्या करते हुए १२ वर्ष तक मुनिमुद्रा में रहे पुन: केवलज्ञान होने पर तो उनका विहार अधर आकाश में होता था और इन्द्र उनके चरणों के नीचे स्वर्ण कमलों की रचना करते थे। भव्यात्माओं के पुण्य प्रभाव से जगह-जगह उनके समवसरण लगते थे जिनमें बैठकर भव्यप्राणी दिव्यध्वनि का पानकर मोक्षमार्ग में प्रवृत्त होते थे।

यदि किसी दिगम्बर जैन आचार्य प्रणीत ग्रंथों में भगवान महावीर के चातुर्मासों का वर्णन प्राप्त हो तो विद्वज्जन हमें अवश्य परिचित कराएँ अन्यथा जो दिगम्बर जैन पत्र-पत्रिकाएँ भगवान महावीर के चातुर्मास प्रकाशित करते हैं उनमें संशोधन कराएँ ताकि महावीर स्वामी के जिनत्व का दिगम्बर जैन आम्नाय अनुसार परिचय जन-जन को प्राप्त हो सके।

दूसरा एक अन्य प्रकरण भी दिगम्बर जैन आम्नाय के विरुद्ध पाया जाता है। उनको चंदना द्वारा दिये गये आहार के प्रकरण में लिखा गया है कि-

‘‘वैशाली के सभी श्रेष्ठी अपने चौके में आहार कराने के लिए लालायित थे, निराश भी रहे। जहाँ आहार हुए उसका दर्शन कर धन्य माना। ‘महावीर’ ने पौष कृष्णा प्रतिपदा को एक महाघोर अभिग्रह धारण किया, जिसके पूर्ण होने पर ही आहार का संकल्प किया। प्रतिज्ञा पूर्ण चार माह तक नहीं हुई, राजा, रानी, प्रजा सभी चिंतित हो गये, तभी वह पुण्य क्षण आया और ‘चंदना’ को आहार देने का मौका मिला। यह अभिप्राय छ: माह बाद पूर्ण हुआ। ‘चंदना’ के मन में सिर्फ यह भाव रहा-

केवल इतना सा ध्यान उसे, ये छ: महीनों के भूखे हैं।

औ, मुझ अभागिनी के समीप केवल ये कोदों रूखे हैं।।’’

मैं पूछना चाहती हूँ कि कौन से दिगम्बर जैन ग्रंथ में वर्णन आया है कि भगवान महावीर के आहार का अभिग्रह छह माह में पूर्ण हुआ? दिगम्बर जैन आम्नाय अनुसार महासती चंदना के जीवन चरित को उत्तरपुराण एवं महावीर चरित आदि से पढ़ें और इस पर भी अपनी धारणा दिगम्बर जैन आम्नाय अनुसार ही बनाएँ, यही मेरा मन्तव्य है।

Flower-bouquet-6.jpg