Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


आचार्य शांतिसागर मुनि दीक्षा शताब्दी वर्ष समारोह का 20 मार्च को मध्यान्ह 4 से 5 पारस पर हुआ सीधा प्रसारण- देखें जिओ टीवी.पर

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

धरती वन्दन करती है, अम्बर वन्दन करता है

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरती वन्दन करती है, अम्बर वन्दन करता है।

Lord-Mahavir-.jpg
तर्ज—संतों का तुम्हें.........

धरती वन्दन करती है, अम्बर वन्दन करता है।
सूरज चाँद सितारों के संग, तुम पद में झुकता है।
धरती......।। टेक.।।
तेरे जनम में इस धरती पर, रत्न बहुत बरसे थे।
बाँट-बाँट कर उन रत्नों को, मात पिता हरषे थे।।
इन्द्र बना किंकर चरणों में, सदा नमन करता है।
धरती......।।१।।
एक रत्न भी उनमें से प्रभु, आज यदी मिल जाता।
तब यह सारा विश्व दिव्यता, को तेरी लख पाता।।
फिर भी हर कवि ग्रन्थों में, गुणगान तेरा करता है।
धरती......।।२।।
कृत्रिम नवरत्नों को हम भी, तुझ पर बरसाएंगे।
तभी ‘चंदनामती’ प्रभू सम पद हम भी पाएंगे।।
तेरी यशगाथा सुनने को, हर पल मन करता है।
धरती......।।३।।

BF2-11K.jpg