Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


आचार्य शांतिसागर मुनि दीक्षा शताब्दी वर्ष समारोह का 20 मार्च को मध्यान्ह 4 से 5 पारस पर हुआ सीधा प्रसारण- देखें जिओ टीवी.पर

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

धर्म प्रभावना की टीस

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


धर्म प्रभावना की टीस

334y.jpg
334y.jpg

एक बंधु नगर के तालाब से पीने के लिए जल छान रहा था , उसे एक राज कर्मचारी ने देख लिया और पकड़कर राजा के पास ले गया। यह सब दृश्य छोटा बालक जिनसेन देख रहा था, उसने अपनी माता से पूछा माताजी ये लोग उस आदमी को क्यों पकड़ कर ले गये हैं । माँ ने उत्तर दिया— बेटा, यहाँ का राजा जैनधर्म से द्वेष रखता है, क्योंकि इनके गुरू शंकराचार्य ने अपने धर्म की भारत भर में विजय होने की घोषणा की है। आज अपना कोई प्रभावशाली आचार्य नहीं है, जो इन्हें जीतकर जैन धर्म की प्रभावना कर सके। जिनसेन ने कहा— माँ , मैं शीघ्र ही दिगम्बर मुनि बनकर प्रतिदिन १०० व्यक्ति जैन धर्म में दीक्षित करूंगा। दीक्षित होकर जिन सेनाचार्य ने भारत भर में जैन धर्म का डंका बजवा दिया।

‘‘ घर घर चर्चा रहे ज्ञान की’’ पत्रक से २०१४