Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

नई पौध पर कैसे लगे संस्कार के फल

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


नई पौध पर कैसे लगे संस्कार के फल

रेखा पतंग्या

बचपन में एक कहानी पढ़ी थी। एक युवा को जब उसके अपराधों के लिए फांसी की सजा सुनाई और उसकी अंतिम इच्छा पूछी तो उसने माँ से मिलने की इच्छा जाहिर की। माँ से मिलने पर उस व्यक्ति ने माँ का हाथ लेकर अपने गाल पर एक चांटा लगाते हुए कहा कि माँ तुमने मेरे अपराध पर यह चांटा मुझे लगाया होता तो आज यह दिन देखना नहीं पड़ता।

Mff cdsopy.jpg
Mff cdsopy.jpg

संभव है आज की युवा पीढ़ी कल हमसे यही प्रश्न करे। युवा पीढ़ी की चर्या आज एक ज्वलंत समस्या है। गत दो—तीन दशाब्दियों से भौतिकवाद के विस्तार के साथ ही युवा पीढ़ी के जीवन में जो खुलापन आया है, उसने सभी सामाजिक बंधन तोड़ दिए। संस्कार, नैतिकता जैसे शब्द युवा पीढ़ी के लिये मजाक के विषय बन गए हैं । आज उस समाज के भविष्य का अंदाज आसानी से लगाया जा सकता है, जहां बाल अपराधों का प्रतिशत निरंतर बढ़ रहा है तथा जहां १५ वर्ष से कम उम्र के छोटे —छोटे बच्चे लाखों की तादाद में नशीली दवाओं का सेवन करने लगे हैं। हिंसा ने आज बच्चों के जीवन में कुछ इस तरह प्रवेश किया कि एक १४ साल का लड़का अपने ही दोस्त से विवाद होने पर उसके शरीर पर १७ बार चाकू से वार करता है। शायद यह घटना अपवाद लग सकती है, किंतु तभी दूसरी घटना प्रकाश में आती है, अपने सहपाठी को पढ़ाई में आगे बढ़ता देख दो दोस्त उसे घूमने ले जाने के बहाने नदी में धक्का दे देते हैं और एक मासूम अपने दोस्तों की मानसिक विकृति का शिकार हो जान गवां देता है।इस तरह की प्रवृत्ति किसी एक दिन की देन नहीं है अपितु इसके बीज बहुत पहले ही बो दिए जाते हैं यह घर में निरंतर होने वाली उपेक्षा व घृणा की प्रतिक्रिया होती है, जो धीरे—धीरे हितों का रूप ले लेती है।

Mff cdsopy.jpg
Mff cdsopy.jpg

एक प्रसिद्ध स्कूल के प्राचार्य ने अपने स्कूल के बच्चों के बारे में बताया कि किशोर पीढ़ी ने खुलेपन को कुछ इस तरह स्वीकार किया कि आज तमाम मर्यादाएं ही खत्म हो गई हैं। भोगवाद से पनपी यह संस्कृति चोरी करो, उधार मांगों पर ऐश करो को बढ़ावा दे रही है। यदि बच्चों के अभिभावक को उनके किसी भी अशोभनीय व्यवहार की शिकायत की जाती है तो हम पर ही बरस पड़ते हैं कि आप हमारे बच्चों के बारे में ऐसा कैसे कह देते हैं ?

नि:संदेह आज हम अभिभावकों ने बच्चों के लिए सुविधाओं का अंबार तो लगा दिया, किंतु उन्हें समय नहीं दिया। बच्चों को आकाश में उड़ने के लिए पंख तो दे दिए, किंतु उनके सामनें कोई लक्ष्य नहीं रखा। और इस तरह सुविधासम्पन्न , किंतु दिशाहीन युवा पीढ़ी अपनी सांस्कृतिक परम्परा व आजादी की पृष्ठभूमि से दूर हो गई तो समाज का प्रौढ़ वर्ग भी अपनी जवाबदारी से मुँह नहीं मोड़ सकता। यही नहीं माता—पिता की व्यस्तता के कारण बच्चों के मार्गदर्शक हैं टी.वी. पर प्रसारित विज्ञापन, जो उन्हें सिखाते हैं ऐसे रहो, ये पहनों, ये खाओ। इन विज्ञापनों ने नई पीढ़ी में ऐसा भ्रम पैदा किया है कि वे ऐसा मानने लगे हैं कि यदि वे इन उत्पादों को नहीं अपनाएंगे तो इस आधुनिक समाज में पिछड़ जाएंगे। आज घरों में अच्छे साहित्य की जगह उपलब्ध हैं नए—नए चैनलों द्वारा दिया गया फूहड़ मनोरंजन, जिसने समाज में विकृति दी है, विलास व हिंसा को बढ़ाया है। बच्चों के जीवन में असंस्कृति का मीठा जहर घोल दिया है।

Mff cdsopy.jpg
Mff cdsopy.jpg

प्रबुद्ध वर्ग के लिए यह चिंतन का विषय है कि परिवार के प्रौढ़ वर्ग ने ही जब उपभोक्तावाद को अपने को समर्पित कर दिया तो नई पौध में संस्कार के फल कैसे रोपे जा सकते हैं? मुझे याद आ रही है एक छोटी सी घटना जो हमारी मानसिकता के स्तर का परिचायक है। धार्मिक पर्व पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम के संयोजकों ने जब फिल्मी नृत्य पर रोक लगा दी तो उन्हें भारी विरोध का सामना करना पड़ा। भाग लेने वाले कलाकारों का कहना था कि हमारे बच्चों के पैर तो धमाकेदार फिल्मी गीतों पर ही उठते हैं। इस तरह फूहड़ता को प्रश्रय तो हम ही देते हैं। रोकथाम उपचार से बेहतर है— यह बात स्वस्थ समाज के लिए भी उतनी ही आवश्यक है जितनी स्वस्थ शरीर के लिए। स्वस्थ समाज हमें मिलकर तैयार करना होगा। हमें करना होगा आत्मचिंतन, समझना होगा संस्कृति के मूल्यों को, बचाना होगा अपने को उपभोक्तावाद के आक्रमण से। तभी तो हमारी नई पौध पुष्पित व पल्लवित होती रहेगी संस्कार के फलों से।

मानवता का हो उद्धार — यदि बच्चों में है सुसंस्कार
ऋषभ देशना पत्रिका