Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

पारसनाथ की आरती B

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'भगवान श्री पारसनाथ की आरती B

                     
DSC 77550.jpg


ॐ जय पारस स्वामी, प्रभु जय पारस स्वामी।
वाराणसि में जन्में, त्रिभुवन में नामी।।ॐ जय.।।
अश्वसेन के नंदन, वामा के प्यारे।।माता वामा.......
तेइसवें तीर्थंकर-२, तुम जग से न्यारे।।ॐ जय.।।१।।
वदि वैशाख दुतीया, गर्भकल्याण हुआ।स्वामी.....
पौष कृष्ण एकादशि-२, जन्मकल्याण हुआ।।ॐ जय.।।२।।
जन्मदिवस ही दीक्षा, धारण की तुमने।स्वामी......
बालब्रह्मचारी बन-२, तप कीना वन में।।ॐ जय.।।३।।
कमठासुर ने तुम पर, घोर उपसर्ग किया।स्वामी......
अहिच्छत्र में तुमने-२, पद कैवल्य लिया।।ॐ जय.।।४।।
श्री सम्मेदशिखर पर, मोक्षधाम पाया।स्वामी......
मोक्षकल्याण मनाकर-२, हर मन हरषाया।।ॐ जय.।।५।।
परमसहिष्णु प्रभू की, आरति को आए।स्वामी......

यही ‘‘चंदनामती’’ अरज है-२, तव गुण मिल जाएं।।ॐ जय.।।६।।