Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

पूज्य आर्यिकारत्न श्री ज्ञानमती माताजी की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पूज्य आर्यिकारत्न श्री ज्ञानमती माताजी की आरती

Diya123.jpg DSC06673 (Small).JPG


तर्ज—मन डोले, मेरा ........


हे बालसती, माँ ज्ञानमती, हम आए तेरे द्वार पे
शुभ मंगल दीप प्रजाल लिया।। टेक.।।
शरद पूर्णिमा दिन था सुन्दर, तुम धरती पर आर्इं।
उन्निस सौ चौंतिस में माता, मोहिनि जी हरषार्इं।।माता .........
थे पिता धन्य, नगरी भी धन्य, मैना के इस अवतार पे,
शुभ मंगल दीप प्रजाल लिया।।१।।
बाल्यकाल से ही मैना के, मन वैराग्य समाया।
तोड़ जगत के बन्धन सारे, छोड़ी ममता माया।।माता..........
गुरु संग मिला, अवलम्ब मिला, पग बढ़े मुक्ति के द्वार पे,
शुभ मंगल दीप प्रजाल लिया ।।२।।
प्रथम देशभूषण गुरुवर से, लिया क्षुल्लिका दीक्षा।
वीरसागर आचार्य से पाई, आत्मज्ञान की शिक्षा।। माता.......
बन वीरमती, से ज्ञानमती, उपकार किया संसार पे,
शुभ मंगल दीप प्रजाल लिया।।३।।
यथा नाम गुण भी हैं वैसे, तुम हो ज्ञान की दाता।
तुम चरणों में आकर के हर, जनमानस हरषाता।।माता........
साहित्य सृजन, श्रुत में ही रमण, कर चलीं स्वात्म विश्राम पे,
शुभ मंगल दीप प्रजाल लिया।।४।।
मंगल आरति करके माता, यही याचना करते ।
अपने से गुण मुझको देकर, ज्ञान की सरिता भर दे।।माता......
भव पार करो, उद्धार करो, ‘‘चंदना’’ यही जग सार है।

शुभ मंगल दीप प्रजाल लिया।।५।।