Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

भजन संग्रह भाग - 02

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भजन (1 न.से 14 न.तक)


निशदिन सुमरो -भजन नं.१

पिच्छी रखने दो-भजन नं.२

पुण्य उदय से नर जीवन-भजन नं.३

जिन धर्म मार्ग पर-भजन नं.४

संसारी पल में तजे -भजन नं.५

आचार्य पुष्पदंत -भजन नं.६

प्रज्ञासागर जी-भजन नं.७

ओ पिंडरई वाले -भजन नं.८

तुभ्यम -भजन नं.९

छोटी उम्र मै -भजन नं.१०

सुक्मालनंदी जी-भजन नं.११

छोटी सी उमर-भजन नं.१२

स्वागत गीत-भजन नं.१३

माँ भारती का सम्मान होना चाहिए-भजन नं.१४

आरती सुकुमालनंदी जी की