Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


ॐ ह्रीं केवलज्ञान कल्याणक प्राप्ताय श्री विमलनाथ जिनेन्द्राय नमः |

भजन संग्रह भाग - 05

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुन्दल्गिरी में ऐसा जादू

चलो जी चांदखेड़ी चलो

चलो गुरुवर के द्वार

अंधेरे से डरता हूँ

दीवाना चांदखेड़ी का

यह चांदखेड़ी माने तो

चांदखेड़ी ले चलो जी

हीरामणि हैं मेरे चंदा भगवान

चांदखेड़ी के राजा

में चांदखेड़ी के साहिबा

चलो दर्शन को सुधासागर

जब से सावरिया

शिखरों की भूल भुलैया

अरे रे मेरी जान शिखर जी

हट जा ताऊ

बड़े बाबा बड़ा इनका नाम रे

सपने में रात देखे सपने

सोनगिर वाले बाबा सोणे लगदेे

झूले बामा मैया का लाला

अरे रे मेरी जान है गुरुवर

आजा कलयुग में लेके अवतार

तेरे कचनेर में

ये चांदखेड़ी है

शिखर जी की यात्रा

गुरूवर पे वारी जाऊं

शांतिनाथ बाबा की कथा

जम्बूदीप हस्तिनापुर में है

आंसू भी है

हल्ला रे हल्ला रे

तुम दरश दो

महावीर हमको बुलालो

दिन रात मेरे स्वामी

सांगानेर में आप विराजे

हे आदिनाथ के ललना

क्योंकि वंदन करते हम

जय जय आदिनाथ प॒भु

नये मन्दिर का मच गया

चलो मम्मी चलो