Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


डिप्लोमा इन जैनोलोजी कोर्स का अध्ययन परमपूज्य प्रज्ञाश्रमणी आर्यिका श्री चंदनामती माताजी द्वारा प्रातः 6 बजे से 7 बजे तक प्रतिदिन पारस चैनल के माध्यम से कराया जा रहा है, अतः आप सभी अध्ययन हेतु सुबह 6 से 7 बजे तक पारस चैनल अवश्य देखें|

१८ अप्रैल से २३ अप्रैल तक मांगीतुंगी सिद्धक्ष्रेत्र ऋषभदेव पुरम में इन्द्रध्वज मंडल विधान आयोजित किया गया है |

२५ अप्रैल प्रातः ६:४० से पारस चैनल पर पूज्य श्री ज्ञानमती माताजी के द्वारा षट्खण्डागम ग्रंथ का सार प्रसारित होगा |

भजन संग्रह भाग - 12

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैन चौपाइयाँ महावरी

ओ मुक्ति दूत

दर्शन तेरा सुखकारी

है त्रिशला ना जाया

है तेरे जिनवर

तेरा नाम सबसे ऊँचा

पायो जी मेने

ऐसे मिलता रहे हर जन्म

नहीं चाहिए दिल दुखाना

चपटी भरी चांखा

महावीर कह गये गौतम से

बोल सको तो मीठा बोलो

जब जब जाऊ तेरे द्वारे

मेली चादर ओढ के

माता त्रिशला के लाल

नाथ तेरे मंदिर में

जय जय वीर जय महावीर

श्रध्दा रखो तो बस देते हैं

प्रभु ॠषभदेव सुख दाई रे

झूलो रे झूलो

दूसरे के दुखडे

तेरी मूरत मन में बसाये

प्रभु पार्श्व कहो

एक बार मुखडो बताओ

धरू में आदीश्वर का ध्यान

ऐसे वीर प्रभु की वाणी

तेरी मूरती जिनवर

परिचय

ओ पालन हारे

वो रहने वाली महलों की

छूम छूम छना नना

आओ नी आओ नी भगवन

ये अवसर बारबार न आये

रात गुरु सपने में आये

पलकें ही पलकें बिछायेंगे

जीवन में आती हैं बहार

मेरे महावीर झूले पालना

मोक्ष का द्वार

णमोकार मंत्र ने बडा

करो आरती श्री गुरुवर की

तुम तो विरागी जिनवर

छू लेना आचार्य के पद

जिनवर की वाणी मानो

गुण आगर के करूणा

जिनवर के भजन कर

कुण्डलपुर जायेंगे

युग निर्माणी माता

धन्य धन्य त्रिशला मैया

छोड़ो छल की बातें

सांझ सकारे भक्त

जन जन के मत से धन

क्योंकि आज में द्वार पे खडी

ओम नमो बडे बाबा

गुरुवर जी धीरे चलना

मैं तो आरती उतारूंगी

णमोकार मंत्र

मेरे गुरुवर आने वाले