Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

भाग २

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बाल विकास : भाग २


पाठ १ - उषा वंदना

पाठ २ - चत्तारि मंगल (भाग १)

पाठ २ - चत्तारि मंगल (भाग २)

पाठ ३ - तीर्थ का महत्व

पाठ ४ - बारह भावना (भाग १)

पाठ ४ - बारह भावना (भाग २)

पाठ ४ - बारह भावना (भाग 3)

पाठ ५ - स्थावर जीव (भाग १)

पाठ ५ - स्थावर जीव (भाग २)

पाठ ६ - त्रस जीव

पाठ ७ - पंचेन्द्रिय तिर्यंच के भेद

पाठ ८ - अष्ट मूलगुण

पाठ ९ - रात्रि भोजन त्याग

पाठ १० - जीव दया

पाठ ११ - छन्ना पानी

पाठ १२ - पंचपरमेष्ठी नमस्कार

पाठ १३ - नवदेवता (भाग 1)

पाठ १३ - नवदेवता (भाग 2)

पाठ १४ - गति के भेद

पाठ १५ - जम्बूद्वीप

पाठ १६ - चौबीस तीर्थंकर स्तुति (भाग 1)

पाठ १६ - चौबीस तीर्थंकर स्तुति (भाग 2)

पाठ १६ - चौबीस तीर्थंकर स्तुति (भाग 3)

पाठ १७ - क्रोध कषाय

पाठ १८ - मान कषाय

पाठ १९- माया कषाय

पाठ २० - लोभ कषाय

पाठ २१ - कर्मा सिद्धांत

पाठ २२ - हिंसा (भाग 1)

पाठ २२ - हिंसा (भाग 2)

पाठ २३ - झूठ

पाठ २४ - चोरी

पाठ २५ - कुशील

पाठ २६ - परिग्रह

पाठ २७ - जीव के भेद (भाग 1)

पाठ २७ - जीव के भेद (भाग 2)

पाठ २८ - जिनवाणी स्तुति

पाठ २९ - भगवन महावीर (भाग 1)

पाठ २९ - भगवन महावीर (भाग 2)