Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ जम्बूद्वीप हस्तिनापुर में विराजमान हैं, दर्शन कर लाभ लेवें ।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

मंदिर में श्रंगार भला किस लिए है

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मंदिर में श्रृंगार भला किस लिए है

तर्ज - अरे द्वारपालो ................

देखो देखो ये है कलियुग,
 ये है कलियुग का हाल ,
भगवान के दरबार में भी श्रृंगार करके आते है
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||
अगर मिलनी है मिट्टी में ये काया ,
तो काया से इतना प्यार भला किसलिए है ||
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||
क्या किसने है पहना , क्या किसने है ओड़ा,
ज्यादा ध्यान उसपे है पूजा में थोडा
क्या किसने है पहना , क्या किसने है ओड़ा
ज्यादा ध्यान उसपे है पूजा में थोडा |
अगर देखनी है औरो कि सूरत , तो मंदिर में मूरत भला किसलिए है||
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||१||
सास ने क्या टोका , बहु ने क्या बोला ,
सारा भेद आकर मंदिर में खोला
सास ने क्या टोका , बहु ने क्या बोला ,
सारा भेद आकर मंदिर में खोला |
अगर करनी ही है घरों की ही चर्चा , तो मंदिर में शास्त्र भला किसलिए है ||
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||२||
लेक्मी की लिपस्टिक , चांदी की पायल ,
आठ सौ की साड़ी और सस्ते वाले चावल
लेक्मी की लिपस्टिक , चांदी की पायल ,
आठ सौ की साड़ी और सस्ते वाले चावल|
तुम्हे चाहिए जो सब कुछ अच्छा , तो मंदिर के चावल अलग किसलिए है
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||३||
खीर कब बनाई , कब हलवा खाया ,
सारा गाना आकार मंदिर में गाया
खीर कब बनाई , कब हलवा खाया ,
सारा गाना आकार मंदिर में गाया |
अगर याद आती है खाने की थाली , तो पूजन की थाली भला किसलिए है
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||४||
सती मैना सीता , अंजना न जाने ,
पार्वती कुंकुम तुलसी को माने
सती मैना सीता , अंजना न जाने ,
पार्वती कुंकुम तुलसी को माने |
टी.वी. अगर है आदर्श तुम्हारा , तो गुरुओ के प्रवचन भला किसलिए है
अरे माता बहनों जरा ये बता दो ,
कि मंदिर में श्रृंगार भला किसलिए है ||५||