Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


माता जी के सानिध्य में लघु पंचकल्याणक प्रतिष्ठा टिकैतनगर में 10 जून से 14 जून तक|

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन |

कॅप्टचा सहायता

यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस विकि जैसे जालस्थल, जो जनता जनार्दन से लेख स्वीकार करते हैं, अक्सर रद्दी काम करने वालों के फंदे में आ जाते हैं, जो स्वचालित यंत्रों से कई स्थलों पर अपनी कड़ियाँ छापने की कोशिश करते हैं। यूँ तो ये रद्दी कड़ियाँ हटाई जा सकती हैं, पर फिर भी ये झंझट तो खड़ा करती ही हैं।

कुछ बार, खासकर जब किसी पन्ने पृष्ठ पर एक नया जाल पता जोड़ा जाता है, तब विकी आपको एक रंगीन या टेढ़े मेढ़े लेख की तस्वीर दिखा के आपको उस तस्वीर में लिखी सामग्री को पढ़ के टंकित करने को कह सकती है। ऐसी तस्वीर को यंत्र द्वारा पढ़ पाना मुश्किल होता है, इसलिए इसके जरिए अधिकतर मानव अपने लेख छाप पाएँगे और साथ ही अधितकर रद्दी वाले और यांत्रिक उपकरण नहीं छाप पाएँगे।

दुर्भाग्यवश इससे सीमित चक्षु-दृष्टि वाले सदस्यों या पाठ-आधारित या वाचन-आधारित विचरकों का प्रयोग करने वाले सदस्यों को समस्या आती है। इस समय हमारे पास इसका श्रव्य विकल्प उपलब्ध नहीं है। यदि इसकी वजह से आपको वैध लेख लिखने में अवरोध आ रहा हो तो कृपया सहायता के लिए स्थल प्रबंधकों से संपर्क करें।

पन्ना संपादन पर वापस जाने के लिए अपने विचरक पर 'एक पृष्ठ पीछे जाएँ' वाली कुंजी का प्रयोग करें।

यह कार्य करने के लिये आपने कूकीज (cookies) एनेबल किया होना आवश्यक हैं।