Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


21 फरवरी को मध्यान्ह 1 बजे लखनऊ विश्वविद्यालय में पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी का मंगल प्रवचन।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

शरीर पर गिरे छिपकली, तो स्नान करना क्यों है जरूरी ?

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शरीर पर गिरे छिपकली, तो स्नान करना क्यों है जरूरी ?

घर की दीवारों पर आपने छिपकली को जरूर देखा हो, कभी कभी यह अचानक दीवार से गिर भी जाती है, संयोगवश अगर यह आपके शरीर पर गिर जाए तो कई तरह की आशंकाएं मन में उठने लगती है। बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि छिपकली अगर शरीर पर गिर जाए तो तुरन्त स्नान कर लेना चाहिए अन्यथा अनहोनी घटनाओं का सामना करना पड़ता है। बड़े—बुजुर्गों का ऐसा कहना उचित भी है क्योंकि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से भी यह साबित होता है कि छिपकली का शरीर पर गिरना खतरनाक है, इससे रोग की संभावना रहती है, इसका कारण यह है कि छिपकली कार्डेटा समूह के फाइलम वर्ग की जीव है। इस वर्ग के कुछ जीव अपने शरीर में बने जहर (यूरिक एसिड) को अपनी चमड़ी पर जमा कर लेते हैं। इस वजह से यह सुरक्षित भी रहते हैं ।

जब कभी छिपकली किसी के शरीर पर गिरती है तो अपने शरीर का जहर त्वचा पर छोड़ देती है, यह जहर बाद में रोम छिद्रों से शरीर के भीतर जाकर घाव का रूप ले लेता है। इसीलिये कहा जाता है कि शरीर पर छिपकली गिरे तो स्नान कर लेना चाहिए, इस संदर्भ में कई जगह पूजा का भी विधान है। पूजा में तुलसी के पत्ते का होना अनिवार्य है। इसका कारण ये है कि तुलसी में कई औषधीय गुण पाये जाते हैं, प्रसाद के तौर पर तुलसी ग्रहण करने पर घाव होने की आशंका काफी कम हो जाती है।