Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

शीतलनाथ की आरती A

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भगवान श्री शीतलनाथ की आरती

111.jpg

ॐ जय शीतलस्वामी, प्रभु जय शीतलस्वामी।

घृतदीपक से करूँ आरती, तुम अन्तर्यामी।।ॐ जय ।।

भद्दिलपुर में जन्म लिया प्रभु, दृढ़रथ पितु नामी।।स्वामी.।।
मात सुनन्दा के नन्दा तुम, शिवपथ के स्वामी।।ॐ जय.।।१।।

जन्म समय इन्द्रों ने, उत्सव खूब किया।।स्वामी.।।
मेरू सुदर्शन ऊपर, अभिषव खूब किया।।ॐ जय.।।२।।

पंचकल्याणक अधिपति, होते तीर्थंकर।।स्वामी.।।
तुम दसवें तीर्थंकर, हो प्रभु क्षेमंकर।।ॐ जय.।।३।।

अपने पूजक निन्दक के प्रति, तुम हो वैरागी।।स्वामी.।।
केवल चित्त पवित्र करन निज, तुम पूजें रागी।।ॐ जय.।।४।।

चन्दन मोती माला आदी, शीतल वस्तु कहीं।।स्वामी.।।
चन्द्ररश्मि गंगाजल में भी, शाश्वत शान्ति नहीं।।ॐ जय.।।५।।

पाप प्रणाशक शिव सुखकारक, तेरे वचन प्रभो।।स्वामी.।।
आत्मा को शीतलता शाश्वत, दे तव कथन विभो।।ॐ जय.।।६।।

जिनवर प्रतिमा जिनवर जैसी, हम यह मान रहे।।स्वामी.।।

प्रभो ‘‘चन्दनामति’’ तव आरति, भव दुख हानि करे।।ॐ जय.।।७।।