Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

शीतलनाथ की आरती B

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'भगवान श्री शीतलनाथ की आरती

111.jpg 221.jpg

तर्ज—जनम-जनम का.......

आरति करने आए जिनवर द्वार तिहारे-हाँ द्वार तिहारे ।।
शीतल जिन की आरति से, भव-भव के ताप निवारें ।।
आरति करने.............।।टेक.।।
भद्दिलपुर नगरी स्वामी, तुम जन्म से धन्य हुई थी,
दृढ़रथ पितु अरु मात सुनन्दा, संग प्रजा हरषी थी।
 जन्मकल्याणक इन्द्र मनाएं, जय-जयकार उचारें।
आरति करने.............।।१।।
चैत्र वदी अष्टमी गर्भतिथि, माघ वदी बारस जन्मे,
माघ वदी बारस को दीक्षा, ले मुनियों में श्रेष्ठ बने।
शीतलता देते उन प्रभु के, गुण स्तवन उचारें।।
आरति करने.............।।२।।
पौष कृष्ण चौदस को केवलरवि किरणें प्रगटी थीं,
आश्विन सुदि अष्टमि को प्रभु ने मुक्तिसखी वरणी थी।
मोक्षधाम सम्मेदशिखर के, गुण भी सतत उचारें।
आरति करने.............।।३।।
पुण्य उदय से स्वामी जो, तव शीतल वाणी पाऊं,
मन का कमल खिलाकर, अपनी आतम निधि विकसाऊं।।
शाश्वत शीतलता के हेतू, भक्ति भाव से ध्याएं।
आरति करने.............।।४।।
सुना बहुत है प्रभुवर कितनों, को भवदधि से तारा है,
कितनों ने पाकर तुम शरणा, मुक्तिधाम स्वीकारा है।
उसी मुक्ति की प्राप्ति हेतु, अब ‘‘इन्दु’’ चरण चित लाए ।
आरति करने.............।।५।।