Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


21 फरवरी को मध्यान्ह 1 बजे लखनऊ विश्वविद्यालय में पूज्य गणिनी प्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी का मंगल प्रवचन।

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें पू.श्री ज्ञानमती माताजी एवं श्री चंदनामती माताजी के प्रवचन |

शीश हमेशा झुका रहे

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


शीश हमेशा झुका रहे

Bhi 770.jpg
-श्रीमती त्रिशला जैन, लखनऊ (उ.प्र.)
नहीं लेखनी लिख सकती है जिनके जीवन की गुणगाथा।

इस युग में भी हो सकती है ऐसी धर्म परायण माता।।

है होता गर्व मुझे खुद पर जो ऐसी माँ से जन्म लिया।
सब पुत्र-पुत्रियों को हरदम जिनने सच्चा उपदेश दिया।।

वह याद दिवस अब भी मुझको जब घर संदेशा पहुँचा था।
माँ अब घर में ना आयेगी सुन घर का कण-कण रोया था।।

पर सोचा तभी भाइयों ने सब चलकर उन्हें मनायेंगे।
सामायिक पर जब बैठी हों हम उन्हें उठाकर लायेंगे।।

अजमेर नगर में पहुँच सभी ने माँ के चरणों को पकड़ लिया।
इस तरह अनाथ बनाओ न कह-कहकर करुण विलाप किया।।

तब माँ बोली देखो बेटे यह तो शरीर का नाता है।
इस जग में सभी प्राणियों को यह मोहकर्म रुलवाता है।।

इसलिए मोह में मत बाँधो मुझको अब दीक्षा लेने दो।
अब बेटी के जीवन से कुछ मुझको भी शिक्षा लेने दो।।

अब तक इस मोह कर्म ने ही हमको घर में रोके रक्खा।
अब समझ गई हूँ दुनियाँ के इन क्षणिक सुखों में क्या रक्खा।।

सबने फिर मौन सम्मति से माँ के चरणों में नमन किया।
उस पथ पर हम भी चलें कभी जिसका तुमने अनुकरण किया।।

हम सबको दो आशीर्वाद जिससे हमको यह शक्ति मिले।
जिस माँ की छाया थी अबतक उसकी ही छाया पुन: मिले।।

जो त्यागमार्ग की हैं देवी ऐसी माँ को शत-शत प्रणाम।
जो परमशांत मुद्राधारी ऐसी माँ को शत-शत प्रणाम।।

जब तक है चन्द्र सूर्य जग में जीवन की ज्योती जला करे।
‘‘त्रिशला’’ का माँ के चरणों में यह शीश हमेशा झुका रहे।।