श्री चक्रेश्वरी मात चालीसा

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्रीचक्रेश्वरी मात चालीसा


-दोहा-

प्रथम नमूँ वृषभेश को,पुनि गणधर भगवान |
शारद माँ को नित नमूँ ,मिले आत्मविज्ञान ||१||
उन आदीश जिनेश की,शासन यक्षी मात |
श्री चक्रेश्वरि नाम है,कीर्ति बड़ी विख्यात ||२||
चालीसा उन मात का,वरणू लेकर नाम |
रोग,शोक,संकट टले ,पूरण हों सब काम ||३||

-चौपाई -

जय जय जय चक्रेश्वरी माता,नाम जपे से मिटे असाता ||१||
अष्ट भुजायुत तेरी प्रतिमा,मन को लागे दिव्य अनुपमा ||२||
दो हाथों में चक्र सुशोभे ,चक्रेश्वरी नाम मन मोहे ||३||
बाण,धनुष,अंकुश आदिक हैं ,एक हाथ से दें आशिष हैं ||४||
गरुड़ सवारी है माँ तेरी,भक्त हेतु ना करतीं देरी ||५||
गोमुखेश की प्रियकारिणि हो,भक्तवत्सला हितकारिणी हो ||६||
ध्यान धरे जो नित्य तुम्हारा, दुख संकट से मिले किनारा ||७||
प्रथ्विराज चौहान के समय,एक कथा प्रचलित जन जन में ||८||
कुछ यात्री तीरथ को निकले,चले बैलगाड़ी को लेके ||९||
मारग में इक मूर्ति खरीदी ,माँ चक्रेश्वरी अतिशययुत थीं ||१०||
एक बैलगाड़ी में रखा ,चलीं नहीं मन अचरज में था ||११||
नभ से इक आवाज थी आई,मूर्ति यहीं पर दो पधराई ||१२||
वह बंजर भू वहाँ न पानी ,देख फव्वारा महिमा मानी ||१३||
सुन्दर मंदिर वहाँ बनाया,माँ की मूरत को पधराया ||१४||
है चंडीगढ रोड पे मंदिर,गाँव है अत्ता कहा सरहिंद ||१५||
श्री वृषभेश की शासन यक्षी,भक्तों की नित रक्षा करतीं ||१६||
मानतुंग मुनि कितने ध्यानी,भोज परीक्षा की थी ठानी ||१७||
नृप ने बंदीगृह में डाला, अठतालिस ताले लगवाया ||१८||
मुनि ने प्रभु का ध्यान किया था,भक्तामर स्तोत्र रचा था ||१९||
हर इक काव्य में ताला टूटा,राजा भी आश्चर्यचकित था ||२०||
जैनधर्म की जय जय गाया,सबने उसको था अपनाया ||२१||
श्री अकलंकदेव विख्याता ,न्यायशास्त्र के अच्छे ज्ञाता ||२२||
वाद विवाद बौद्ध संग करते,किन्तु न हल कोई भी निकले ||२३||
ध्यान किया प्रभु आदिनाथ का,कंपा आसन प्रगटीं माता ||२४||
सारी घटना उन्हें बताई ,पर्दाफाश हुआ तब भाई ||२५||
लज्जित तारादेवी भागी, बौद्ध गुरू थे हुए पराजित ||२६||
जय जय जय जिनधर्म की गाया,जैनधर्म परचम लहराया ||२७||
कर में कंगन ग्रीवा माला,कान में कुंडल रूप निराला ||२८||
तेज है मुख पर नयन में करुणा ,चिंतित फल दे तेरी शरणा ||२९||
इक सौ आठ मन्त्र जो जपता,हर इक इच्छा पूरी करता ||३०||
सुख सम्पति सौभाग्य प्राप्त हो,वात ,पित्त,कफ,रोग शांत हों ||३१||
धन सुख राज्य आदि मिल जाता,भूत प्रेत भय नाशें बाधा ||३२||
आप मात हो सम्यग्द्रष्टी ,मुझ पर करो नेह की वृष्टी ||३३||
ठुकरा दो या अब स्वीकारो , एक नजर बालक पे डारो ||३४||
बहुत सुनी है तेरी महिमा, इसी हेतु आए तव शरणा ||३५||
विधिवत जो आराधन करते, सांसारिक सुख सब ही मिलते ||३६||
हे जिनधर्मवत्सला माता, भक्त एक बस इच्छा लाता ||३७||
सम्यग्दर्शन कभी न छूटे,नहिं जिनधर्म से नाता टूटे ||३८||
और नहीं माँ कुछ भी चाहूँ,मुक्तितलक जिनधर्म ही चाहूँ ||३९||
'इंदु' ने ली माँ तेरी शरणा , सदा बसो माँ मम अंतर मा ||४०||

-शम्भु छंद -

आदीश्वर प्रभुवर की यक्षी,भक्तों के हित करुणाकर हो |
श्री गोमुख यक्ष की प्रियकारिणी ,वात्सल्य की अद्भुत सागर हो ||
सम्यग्द्रष्टी इन माता की ,जो भी आराधन करते हैं |
लौकिक सुख 'इंदु'सहज मिलता,जिनधर्म में प्रीती रखते हैं ||१||