Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

श्री पार्श्वनाथ स्तुति

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्री पार्श्वनाथ स्तुति

DSC 77550.jpg
—प्रदीपकुमार जैन, बहराइच (उ.प्र.)
आज आया शरण पार्श्व प्रभुवर तेरी।

विनती करता हूँ मैं सुन लो विनती मेरी।।
पौष कृष्णा एकादशी थी शुभ तिथि।
जन्में प्रभुवर नगर वाराणसि धन्य थी।।
मात वामा की गोदी में खेले प्रभू ।
पालनें में झुलावें माँ झूलें प्रभू ।।
नाग नागिन का उद्धार तुमने किया।
तुम हो सर्वज्ञ उपदेश हित का दिया।।
तीस वर्ष की आयु में छोड़ा महल।
दीक्षा धारण किया धारा चारित सकल।।
कमठ ने दुख दिये भव-भव में तुम्हें।
तुमने कीया क्षमा हर भव में उसे।।
तुममें राग नहीं तुममें द्वेष नहीं।
निज में रहते हो लीन सदा आप ही।।
मेरी नैय्या भंवर में है कबसे पड़ी।
पार उसको लगा दो प्रभू शीघ्र ही।।
जब तलक मेरा इस जग से वास रहे।
आप मेरे सदा दिल के पास रहें।।
पार्श्व प्रभुवर करूँ मैं तेरी वंदना।
तव कृपा से ‘प्रदीप’ मिटे दुख सदा।।