Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

श्रेष्ठी श्री छोटेलाल जी-चैतन्य रत्नाकर

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


श्रेष्ठी श्री छोटेलाल जी-चैतन्य रत्नाकर

यह भारत वसुधा ऋषि-मुनियों के, तप से पावन मानी है।

इसकी आध्यात्मिक ऊर्जा से, शक्ती पाते नर-नारी हैं।।
इक श्रेष्ठी छोटेलाल नाम के, जिनका परिचय बहुत बड़ा।
ज्यादा कहने की शक्ति नहीं, किञ्चित् प्रयत्न का भाव जगा।।१।।

जैसे सुन्दर उपवन लखकर, माली को योग्य समझते हैं।
घर सुन्दर-सजा देख करके, गृहिणी की प्रशंसा करते हैं।।
बस उसी तरह से योग्य पुत्र-पुत्री को लखकर हर मन में।
सहसा विचार आता है इनके, मात-पिता अच्छे होंगे।।२।।

ऐसी ही इक प्रतिभाशाली, व्यक्तित्व ज्ञानमति माताजी।
जिनके पितु छोटेलाल, मोहिनी माता जगत्प्रसिद्ध हुर्इं।।
मैंने उन चेतन रत्नाकर को, निज नेत्रों से नहिं देखा।
लेकिन उनका महान जीवन, बहुतेक बार है पढ़ा-सुना।।३।।

उन पूज्य जनक की जन्म शताब्दी, का शुभ अवसर आया है।
जिनने अपना सारा जीवन, श्रावक की भाँति बिताया है।।
युग-युग तक उनकी कीर्ति सुगंधी, चारों ओर प्रसारित हो।
‘‘सारिका’’ शीघ्र ही वे भी सिद्धों, की श्रेणी में शामिल हों।।४।।