Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


प्रतिदिन पारस चैनल पर पू॰ श्री ज्ञानमती माताजी षट्खण्डागम ग्रंथ का सार भक्तों को अपनी सरस एवं सरल वाणी से प्रदान कर रही है|

प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें | 6 मई 2018 से प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक |

सदस्य वार्ता:Bhisham

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भीषम यादव ! तुम तीर्थवंदना पत्रिका में से मैटर लेकर अलग-अलग पेज बनाकर डालो । और आगे क्या काम चल रहा है, सूचित करो । - चन्दनामती माताजी


वंदामि माताजी,
माताजी मैने श्रेणी:पत्र - पत्रिकाएँ में उपश्रेणी तीर्थवंदना पत्रिका बनाई उस में सभी बुक scan करके अपलोड कर रहा हूँ और माताजी जो आप कह रहे हो उस का मेरे पास soft metter नही है इसलिए मै सभी book scan कर रहा हूँ |

भीष्म यादव