Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ का मंगल चातुर्मास टिकैतनगर-बाराबंकी में चल रहा है, दर्शन कर लाभ लेवें |

पारस चैनल पर प्रातः ६ से ७ बजे तक देखें जिनाभिषेक एवं शांतिधारा पुन: ज्ञानमती माताजी - चंदनामती माताजी के प्रवचन ।

सर्वतोभद्र मण्डल विधान की आरती

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सर्वतोभद्र मण्डल विधान की आरती


Diya123.jpg Tirth.jpg

आज करें सर्वतोभद्र की, आरति सब नरनार।
मणिमय दीपक लेकर आए, जिनवर के दरबार।।
हो प्रभुवर हम सब उतारें तेरी आरती।।टेक.।।

ऊध्र्व, मध्य अरू अधोलोक में, जितने भव्य जिनालय।
कृत्रिम और अकृत्रिम जिनगृह, सौख्य सुधारस आलय।।
जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।१।।

भवनवासि व्यन्तर ज्योतिष, वैमानिक के जिनमंदिर।
इक सौ आठ जैन प्रतिमा से, शोभ रहे अतिसुन्दर।।
जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।२।।

चार शतक अट्ठावन मंदिर, मध्यलोक में गाए।
स्वयं सिद्ध जिननिलय अकृत्रिम, ग्रंथों में बतलाए।।
जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।३।।

पंच भरत ऐरावत पांचों, में तीर्थंकर जितने ।
पांचों महाविदेहों के सब, तीर्थंकर को नम लें।।
जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।४।।

अर्हत, सिद्धाचार्य उपाध्याय, साधु पंचपरमेष्ठी।
जिनवाणी, जिनधर्म, जिनालय, चैत्य सर्व सुख श्रेष्ठी।।
जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।५।।

सबका जो कल्याण करे, सर्वतोभद्र कहलाता।
इसकी आरति से जन-जन का, भव आरत छुट जाता।।
जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।६।।

ज्ञानमती माताजी ने यह, महाविधान बनाया।
करे ‘चन्दनामति’ जो इसको, मनवांछित फल पाया।।

जिनवर हम सब उतारें तेरी आरती।।७।।