Whatsappicon.jpg
Whatsappicon.jpg
ज्ञानमती नेटवर्क से जुड़ने के लिये ADD ME < मोबाइल नं.> लिखकर +91 7599002108 पर व्हाट्सएप पर मेसेज करें|


पूज्य गणिनीप्रमुख श्री ज्ञानमती माताजी ससंघ ऋषभदेवपुरम्-मांगीतुंगी में विराजमान है ।

प्रतिदिन पारस चैनल के सीधे प्रसारण पर प्रातः 6 से 7 बजे तक प.पू.आ. श्री चंदनामती माताजी द्वारा जैन धर्म का प्रारंभिक ज्ञान प्राप्त करें |

हम सब मनाएं मिल खुशियाँ, मनाएं मिल खुशियाँ

ENCYCLOPEDIA से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम सब मनाएं मिल

तर्ज—जन्मदिन पर बधाई गीत......

हम सब मनाएं मिल खुशियाँ, मनाएं मिल खुशियाँ।

जनमदिन आया है-२ ।। टेक.।।
ज्ञानमती माता की जयंती।
साथ में शुभ वैराग्य दिवस भी।।
खुश है ये सारी नगरिया, ये सारी नगरिया।
पूनो का चाँद आया है।। हम......।।१।।
घर को छोड़ा जग को पाया।
अपने ज्ञान का बाग सजाया।।
हम भी सजायें निज बगिया, सजाएं निज बगिया।
धरती का चाँद आया है।। हम......।।२।।
जहाँ चरण पड़ते माँ तेरे।
वहीं ‘चंदनामति’ हों मेले।।
सब मिल करें तेरी बतियाँ, करें तेरी बतियाँ।

पूनो का चाँद आया है।। हम......।।३।।